मार्च 2018 तक खुले में शौच से मुक्त होगा मेरठ मण्डलः उपनिदेशक पंचायती राज

0
55

मेरठ 26 सितंबर। चै0 चरण सिंह विवि के बृहस्पति भवन में स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) एवं ग्राम पंचायत विकास योजना अन्तर्गत अधिकारियों का एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारम्भ आयुक्त डा0 प्रभात कुमार के निर्देश पर संयुक्त विकास आयुक्त एबी मिश्रा ने दीप प्रज्जवलन कर किया। उन्होंने कहा कि गंदगी हारेगी और भारत जीतेगा, खुले में शौच से मुक्त कराना हम सबकी जिम्मेदारी है। ग्रामवासी अपने सम्मान व सुरक्षा के लिये अपने घर में इज्जत घर का निर्माण करायें। संयुक्त विकास आयुक्त ए0बी0 मिश्रा ने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन भारत का एक बड़ा व महत्वपूर्ण मिशन है। स्वच्छता से स्वतंत्रता व स्वास्थ्य जुड़ा हैं। मिशन के अन्तर्गत ग्रामों में शौचालय बन जाने के बाद उसकी उपयोगिता सुुनिश्चित करने की आवश्यकता पर बल दिया तथा कहा कि खुले में शौच से मुक्त कार्यक्रम की सतत् निगरानी व निरीक्षण आवश्यक हैं।

संयुक्त विकास आयुक्त ए0बी0 मिश्रा ने कहा कि खुला मल अनेकों बीमारियों का घर होता है। उन्होंने ग्रामवासियों में खुले में शौच से लोगो को रोकने की क्षमता विकसित करने के लिये कहा। उन्हांेने कहा कि मेरठ मण्डल प्रदेश का पहला खुले में शौच से मुक्त मण्डल हो इसके लिये सभी को टीम भावना व परस्पर समन्व्य के साथ कार्य करना होगा। उप निदेशक पंचायती राज प्रवीणा चैधरी ने कहा कि ग्रामवासी महंगे मोबाइल के स्थान पर घर में शौचालय निर्माण को प्राथमिकता दें तथा बताया कि मण्डल के जनपद हापुड़, गाजियाबाद व गौतमबुद्धनगर खुले में शौच से मुक्त किये जा चुके है मेरठ में 94 प्रतिशत कार्य हो चुका है तथा 02 अक्टूबर 2017 तक मेरठ खुले में शौच से मुक्त हो जाएगा। बागपत में 85 प्रतिशत कार्य हो चुका है तथा बागपत 31 अक्टूबर 2017 तक खुले में शौच से मुक्त हो जाएगा।

बुलन्दशहर में 55 प्रतिशत कार्य हुआ है उन्होंने बताया कि मेरठ मण्डल मार्च 2018 तक खुले में शौच से मुक्त हो जाएगा। उप निदेशक पंचायती ने बताया कि ग्राम पंचायत निधि से मिली धनराशि से विद्यालयों एवं आंगनबाड़ी केन्द्रों में स्कूली शौचालय बनाये गये हैं। उन्हांेंने बताया सरकार द्वारा एक शौचालय के निर्माण में 12 हजार रूपये की धनराशि दी जाती है। उन्होंने बताया कि ग्रामों में समुदाय संचालित सम्पूर्ण स्वच्छता (सीएलटीएस) कार्यक्रम अन्तर्गत ग्रामवासियों को ट्रिगरिंग दल द्वारा जागरूक किया जा रहा है तथा बुलावा टोली भी प्रभावी है। उप निदेशक पंचायती ने बताया कि एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यकम जिसका उद्देश्य स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के उद्देश्यों पर उन्मुखीकरण, सीएलटीएस व ग्राम पंचायत विकास योजना पर विस्तृत जानकारी है, में जिला पंचायत राज अधिकारी एडीओ पंचायत, कन्सलटेंट, खण्ड प्रेरक व कम्प्यूटर आॅपरेटर आदि को प्रशिक्षण दिया गया। ट्रिगर मनोज शुक्ला ने कहा कि खुले में शौच से मां की कोख को बचाने के लिये सभी अपने घरों में शौचालयों को निर्माण करायें।

उन्होंने कहा कि एक ग्राम मल में एक करोड़ वायरस, दस लाख जीवाणु व एक मिली ग्राम मल में 10 हजार कीटाणु होते है तथा यदि मक्खी जिसके 06 पैर होते है खुले मल में बैठकर अपने एक पैर में एक मिली ग्राम मल लेजाकर खाने पर बैठ जाती है तो वही मल खाने के माध्यम से पेट में जाकर अनेको बीमारियों उम्पन्न करता है। उन्होंने बताया कि खुले मंे शौच से विश्व में 60 लाख लोग प्रतिवर्ष अंधे हो जाते है तथा यह एक मस्तिष्क ज्वर सहित अनेको बीमरियों का घर है। इस अवसर पर जिला पंचायत राज अधिकारी मेरठ आलोक शर्मा, बुलन्दशहर अमर जीत सिंह, बागपत संजय यादव, हापुड़ रेनु श्रीवास्तव, गाजियाबाद बीपी शुक्ला सहित अन्य अधिकारीगण एवं कर्मचारीण उपस्थित रहें।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

thirteen + 4 =