600 टीमें आज से घर-घर जाकर ढूंढेंगी कोरोना के मरीज

0
846

विदेश से आए लोगों को मेडिकल में जांच करानी अनिवार्य
मेरठ 30 मार्च। मेरठ में कोरोना मरीजों की चेन बनने से हड़कंप मचा हुआ है। शहर में अब तक कोरोना संक्रमित मामले 13 हो चुके हैं। गत दिवस कोरोना संक्रमित आठ नए मरीज मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन अब शहर में घर घर जाकर कोरोना के संदिग्ध मरीजों का पता लगाया जाएगा। आज से 600 टीमें सड़कों पर उतरेंगी जो शहरी स्वास्थ्य केंद्रों के विभिन्न क्षेत्रों में सर्च अभियान चलाएंगी।
इस दौरान ऐसे मरीजों की सूची बनाई जाएगी जिन्हें पिछले कुछ समय से सूखी खांसी, बुखार और सांस लेने में दिक्कत है।उनकी जांच कराने के बाद यदि उनमें लक्षण दिखाई देते हैं तो उन्हें आइसोलेेशन वार्ड में भर्ती कराया जाएगा। यदि रिपोर्ट पाॅजिटिव आती है तो इलाज शुरू किया जाएगा अन्यथा घर भेज दिया जाएगा। कोरोना के लक्षण वाले मरीज की हिस्ट्री यदि विेदश से आने अथवा दूसरे किसी प्रदेश की होगी तो उनकी खास निगरानी की जाएगी। फिलहाल 607 लोगों की स्वास्थ्य विभाग निगरानी कर रहा है। इसके अलावा 26 लोग सुभारती के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती है। इनकी आज शाम तक रिपोर्ट आ जाएगी। इनमें 14 वह लोग हैं जो क्राॅकरी कारोबारी के संपर्क में रहे थे।

गत दिवस मेरठ में जिन आठ लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है, उनमें छह महिलाएं और दो पुरुष शामिल है। सात संक्रमित शास्त्रीनगर सेक्टर 13 और एक सराय बहलीम का है। गनीमत यह रही कि इनके परिवार के एक बच्चे और तीन अन्य सदस्यों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। शास्त्रीनगर में लगातार बढ़ रहे मामलों को देखते हुए जिलाधिकारी ने तीन अप्रैल तक तीनों इलाको की एक किलोमीटर तक की परिधि को अस्थायी रूप से सील करने का आदेश दिया है। इस दौरान एक किलोमीटर में रहने वाले सभी लोग अपने आवास में ही रहेंगे। इस दौरान इस इलाके के सभी लोगो की गहन जांच की जानी है। वहीं, इस दौरान शांति व्यवस्था को कायम रखने के लिए तीन मजिस्ट्रेट की तैनाती की गई है। इसमें सेक्टर 13 शास्त्रीनगर में जिला विकास अधिकारी दिग्विजय नाथ तिवारी, सराय बहलीम में अधिशासी अभियंता सीपी सिंह, हुमायूं नगर में प्राचार्य डायट श्रवण कुमार शर्मा तैनात रहेंगे।

उधर मवाना क्षेत्र में दस विदेशी नागरिकों के मिलने के बाद हड़कंप मच गया। ये सभी नागरिक जमात के साथ यहां पहुंचे थे। बताया गया कि इनमें इंडोनेशिया, केन्या, सूडान समेत कई देशों के नागरिक हैं।

एलआईयू जांच में नागरिकों के एकत्र होने की जानकारी मिलने पर पुलिस स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ मौके पर पहुंची और सभी नागरिकों को जांच के बाद आइसोलेट करा दिया। पुलिस के अनुसार लाॅकडाउन के बावजूद विदेशी नागरिकों के शहर में होने की सूचना पुलिस को नहीं दी गई थी। वहीं पुलिस विदेशी नागरिकों को शरण देने वालों के खिलाफ मुकदमें की तैयारी कर रही है।

13 लोगों में कोरोना वायरस की पुष्टि होने के बाद जिलाधिकारी अनिल ढींगरा ने आदेश दिए हैं कि अब 12 मार्च के बाद विदेश या देश के अन्य राज्यों से आये सभी व्यक्तियों को अपनी कोरोन जांच कराने के लिये मेडिकल काॅलेज पहुंचकर आज  शाम 7 बजे तक सैंपल देना अनिवार्य होगा।

जिलाधिकारी अनिल ढींगरा के आदेशानुसार यदि ऐसे किसी व्यक्ति द्वारा सैंपल जांच के लिए नहीं दिए गए और उसे या उसके क्षेत्र में किसी को कोरोना पाॅजिटिव पाया गया तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twenty − fifteen =