एलेक्जेंडर क्लब चुनाव: सदस्यता सूची पर विवाद उचित नही, 15 को फैसला देंगे डिप्टी रजिस्ट्रार

0
197

मेरठ 13 जुलाई। एलेक्जेंडर क्लब के चुनाव हेतु 9 जुलाई को डिप्टी रजिस्ट्रार चिट फंड कार्यालय एवं एलेक्जेंडर क्लब में 1144 सदस्यों की लगायी गयी सूची में कुछ सदस्यों द्वारा 6 सदस्यों के नाम पर गत दिवस डिप्टी रजिस्ट्रार चिट फंड सोसाईटी श्री दिलीप कुमार गुप्ता के समक्ष अपनी आपति दर्ज करायी जिस पर क्लब के वर्तमान सचिव श्री मुकेश गुप्ता का कहना है की तीन महिला सदस्यों का पैसा पिछले काफी समय से जमा था उन्हे सदस्य बनाया जाना गलत केसे हो गया। बाकी सदस्यों के मृत होने की जो आपति की गयी है सूची उससे पहले उपलब्ध करायी जा चुकी थी। इसलिए 6 सदस्यों के इस विवाद पर क्लब के जागरूक कुछ सदस्यों का मौखिक रूप से कहना है की इसमें कुछ गलत नही है मुकेश गुप्ता का कथन सही है आपति दर्शाने के पीछे चुनाव में विवाद बनाये रखना बताया जाता है।
स्मरण रहे की शहर के प्रतिष्ठित एलेक्जेंडर क्लब के चुनाव को लेकर प्रकाशित अनंतिम मतदाता सूची पर क्लब के आठ सदस्यों ने आपत्ति दर्ज की है। उन्होंने कहा है कि छह सदस्यों का नाम गलत है। उधर, डिप्टी रजिस्ट्रार चिट फंड दिलीप कुमार गुप्ता का कहना है कि 15 जुलाई को आपत्तियों का निस्तारण कर 16 को अंतिम प्रकाशन कर दिया जाएगा।
इससे पूर्व डिप्टी रजिस्ट्रार ने नौ जुलाई को एलेक्जेंडर क्लब के चुनाव के लिए सदस्यों की अंतिम सूची का प्रकाशन कराया था। शुक्रवार को आपत्ति का दिन था। दोपहर एक बजे के लगभग क्लब के पूर्व कोषाध्यक्ष गौरव अग्रवाल, कार्यकारिणी सदस्य शुभेन्द्र मित्तल, कमल भार्गव, पूर्व उपाध्यक्ष राकेश जैन, पूर्व कार्यकारिणी सदस्य विपिन अग्रवाल, विपिन सोढ़ी, एपी अग्रवाल आदि की ओर से आपत्ति डिप्टी रजिस्ट्रार को दी गई। जिसके अनुसार सदस्यता संख्या 273, 279 व 553 पर क्रमशः नेहा अग्रवाल, पिंकी अग्रवाल, आशा रानी को सदस्य दिखाया गया है, जबकि 2017, 2014 के चुनावों की सदस्यता सूची में उपरोक्त महिला सदस्य नही थी।
इसी प्रकार सदस्यता संख्या 961 पर वैभव गुप्ता का नाम अंकित है, जबकि इस नंबर पर रामकुमार गुप्ता का नाम दर्ज चला आ रहा है। रामकुमार गुप्ता का देहांत हो चुका है और अब उनकी जगह उनके पुत्र वैभव गुप्ता का नाम गलत तरीके से दर्ज करने का आरोप लगाया गया है। इसके अलावा प्रीति अग्रवाल को सदस्यता संख्या 344 पर सदस्य दिखाया गया है, जबकि इस क्रम पर रामकिशन अग्रवाल का नाम दर्ज है। सदस्यता नम्बर 70 व 221 पर दर्ज डा. आदित्य बिहारी लाल व लोकेश कुमार वशिष्ठ का मृत्यु हो चुकी है इसलिए इनका नाम हटाया जाना चाहिए। यह भी बताया गया कि वर्ष 2017 में हुए चुनाव के समय क्लब में 1172 सदस्य थे। पिछले दो वर्षों में 34 सदस्यों की मृत्यु हो चुकी है इस हिसाब से अब 1138 सदस्य होने चाहिए। वहीं, जबकि 9 जुलाई को प्रकाशित की गई सूची के अनुसार 1144 सदस्य दिखाए गए हैं। .
इनमें में तीन सदस्यों की मृत्यु हो चुकी है तथा तीन महिलाओं का नाम गलत तरीके से दर्ज किया गया है। अतः अगर 1144 में से छह सदस्य हटा दिए जाएं तो क्लब सदस्यों की संख्या 1138 ही होनी चाहिए।
वैसे तो चुनाव चाहे किसी भी संस्था का हो विवाद होना कोई बड़ी बात नही है मगर अगर सचिव मुकेश गुप्ता का कथन सही है तो जिन सदस्यों को लेकर विवाद किया गया है उसका कोई औचित्य नजर नही आता है देखना यह है की विद्वान चुनाव अधिकारी डिप्टी रजिस्ट्रार चिट फंड सोसाईटी द्वारा इस संदर्भ में क्या निर्णय लिया जाता है। यह 15 जुलाई सोमवार को ही स्पष्ट हो पायेगा।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

6 + eight =