जिलाधिकारी ने औघड़नाथ मन्दिर में लिया कांवड व्यवस्थाओं का जायजा

0
188

मेरठ. जिलाधिकारी समीर वर्मा ने श्रावण शिवरात्रि/कांवड यात्रा को सकुशल एवं शान्तिपूर्ण माहौल में सम्पन्न कराने के उद्देश्य से सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों के साथ बाबा औघड़नाथ मन्दिर में आयोजित बैठक की अध्यक्षता की। जिलाधिकारी ने मन्दिर परिसर में की जाने वाली पुलिस एवं प्रशासनिक व्यवस्थाओं का जायजा लिया तथा अधिकारियों को विशेष सतर्कता बरतने के सख्त निर्देश दिये। उन्हांेने कैन्ट बोर्ड, नगर निगम एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि श्रद्धालु कांवडियों को सभी आवश्यक सुविधायें जैसेः  शुद्व पेयजल, चिकित्सा, शौचालय, सफाई व्यवस्था आदि पिछले वर्ष से दुगनी और बेहतर प्रदान करें, इसकी उपलब्धता में किसी प्रकार की कोई चूक न होने दें। उन्होंने पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों को हिदायत देते हुए कहा कि वह मन्दिर परिसर सहित सम्र्पूण कांवड़ मार्गो पर सर्तकता एवं सजगता के साथ पैनी नजर रखें।  जिलाधिकारीे आज बाबा औघड़नाथ मन्दिर में शिवरात्रि जलाभिषेक की तैयारियांे की बैठक कर रहे थे। उन्होंने प्रशासनिक व्यवस्थाओं का जायजा लेते हुए कहा कि श्रावण शिवरात्रि के अवसर पर कांवड यात्रा पश्चिमी उत्तर प्रदेश का वृहद्व स्तर मनाये जाना वाला पर्व है, जिसमें लाखों की तादाद में श्रद्वालु अपनी मनोकामना को पूर्ण किए जाने हेतु जनपद के विभिन्न मार्गो से हरिद्वार से जल ग्रहण कर अपने गंतव्य स्थान के लिए गुजरते है तथा मेरठ सहित आस पास के लाखो लोग मन्दिर में जलाभिषेक करते है, इसलिए अधिकारी अपने दायित्वों के प्रति गम्भीर अपनी निर्धारित डयूटी के अनुरूप कार्य करें।  जिलाधिकारी ने कहा कि 21 जुलाई की रात्रि 10 बजे से जलाभिषेक शुरू होगा, जो 22 जुलाई तक किया जाएगा। उन्होंने औघड़नाथ मन्दिर की सुरक्षा व्यवस्थाओं का जायजा लेते हुए कहा कि मन्दिर के अन्दर पूर्णतः बैरेकैडिंग से प्रवेश कराया जाए तथा पर्याप्त मात्रा मे मन्दिर परिसर में सीसीटीवी कैमरे लगायें जाए और मन्दिर परिसर की ड्रोन के माध्यम से निगरानी की जाए ताकि हर छोटी से छोटी गतिविधि पर पैनी नजर रखी जा सके। उन्होंने बताया कि परिसर में वाॅच टाॅवर के साथ कन्ट्रोल रूम भी स्थापित किया जाएगा।  उन्होंने अधिकारियों से कहा कि वह मन्दिर परिसर व उसके आस पास सहित कावंड मार्गो पर खुफिया तंत्रों को तैनात करें, ताकि हर गतिविधि की जानकारी हो सके।  उन्होंने कहा कि मन्दिर में श्रद्धालुओं के प्रवेश एवं निकासी पांइट को पर्याप्त रखें ताकि किसी भी प्रकार की असुविधा न हो तथा मन्दिर परिसर के प्रवेश द्वारों पर सुरक्षा की दृष्टि से मेटल डिटेक्टर अवश्य लगायें। उन्होनंे नगर निगम व कैंट बोड के अधिकारियों को निर्देशित किया कि वह मन्दिर के आसपास साफ-सफाई व पानी के टंैकर तथा मोबाईल टायलेंट आदि की व्यवस्था करायें। जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिये कि जल से पूर्व मन्दिर के पास चिकित्सा कैैम्प व एम्बूलेंस की उपलब्धता सुनिश्चित करायें तथा कैम्प में पर्याप्त चिकित्सक एवं दवाओं की  भी सुनिश्चिता भी करायें।   पुलिस अधीक्षक नगर मान सिंह चैहान ने बैठक के दौरान सुरक्षा की दृष्टि से मन्दिर परिसर में पर्याप्त पुलिस बल तैनात रखने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा मन्दिर परिसर पर डयूटी में किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाये। यदि इसमें किसी प्रकार की कोताही पायी गई तो इसको गम्भीरता से लेते उनके विरुद्व कड़ी कार्यवाही अमल में लायी जाएगी । उन्होने बताया कि मन्दिर परिसर की सुरक्षा हेतु 02 कम्पनी आरपीएफ, 01 पीएससी, व आठ गजेटिड पुलिस अफसर व 02 दर्जन एसओ तथा पर्याप्त मात्रा में सिपाही तैनात रहेंगे।  इस अवसर पर सीएमओ डा0 राज कुमार, अपर जिलाधिकारी वित्त गौरव वर्मा, अपर जिलाधिकारी नगर मुकेश चन्द्र, नगर मजिस्टेªट एम0पी0 सिंह, पुलिस अधीक्षक यातायात संजीव कुमार वाजपेयी, एसीएम ज्ञान प्रकाश यादव, अंकुर श्रीवास्तव, अपर नगर आयुक्त, एएसपी अंकित मित्तल, जिला अग्नि शमन अधिकारी एस0डी0 शर्मा, डिप्टी एसपी एलआईयू वी0के0 शर्मा, एसीएम ओ धीरेन्द्र कुमार, पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारी सहित मन्दिर समिति के अध्यक्ष डा0 महेश बंसल, महांमंत्री सतीश सिघल, उपध्यक्ष दिनेश सिघल सहित अन्य सदस्य उपस्थित रहे ।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

8 + fourteen =