कार्य में पारदर्शिता व जवाबदेही के लिये सरकार ने प्रारम्भ की ई-टेण्डरिंग प्रक्रिया-समीर वर्मा

0
255

मेरठ कलैक्ट्रेट स्थित बचत भवन में ई प्रोक्योरमेंट एवं ई टेण्डरिंग के सम्बंध में दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन जिलाधिकारी समीर वर्मा की अध्यक्षता में प्रारम्भ हुआ। प्रदेश सरकार द्वारा विभिन्न विभागों में कार्यो में पारदर्शिता जवाबदेही व ईमानदारी विकसित करने के उद्देश्य से ई प्रोक्योरमेंट एवं ई टेण्डरिंग प्रक्रिया प्रारम्भ की गयी है। इसके लिए प्रदेश सरकार ने वेबसाइट  ूूूण्मजमदकमतण्नचण्दपबण्पद  प्रारम्भ की है। मेरठ कलैक्ट्रेट स्थित बचत भवन में ई प्रोक्योरमेंट एवं ई टेण्डरिंग के सम्बंध में दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन जिलाधिकारी समीर वर्मा की अध्यक्षता में प्रारम्भ हुआ। प्रदेश सरकार द्वारा विभिन्न विभागों में कार्यो में पारदर्शिता जवाबदेही व ईमानदारी विकसित करने के उद्देश्य से ई प्रोक्योरमेंट एवं ई टेण्डरिंग प्रक्रिया प्रारम्भ की गयी है। इसके लिए प्रदेश सरकार ने वेबसाइट  ूूूण्मजमदकमतण्नचण्दपबण्पद  प्रारम्भ की है।  जिलाधिकारी समीर वर्मा ने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा विभिन्न निर्माण कार्यो एवं अन्य चीजों को पारदर्शिता से करने के उद्देश्य से ई प्रोक्योरमेंट  के अन्तर्गत ई टेण्डरिंग प्रक्रिया लागू की है जिसमें विभिन्न विभाग अपने अपने कार्यालयों में टेण्डर कमेटी गठित कर वेसाइट के माध्यम से टेण्डर देकर चीजों को प्राप्त करेंगें। उन्होंने बताया कि विभिन्न विभागों के अधिकरियों को इसके लिये यूजर आईडी व पासवर्ड भी उपलब्ध कराया जाएगा।  मुख्य विकास अधिकारी आर्यका अखौरी ने ई-टेण्डंिरंग प्रक्रिया को आज की जरूरत बताते हुए कहा कि ई टेण्डरिंग प्रक्रिया प्रदेश में पूर्ण रूप से आगामी 01 सितम्बर 2017 से लागू हो जाएगी। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा मुख्य विकास अधिकारियों को नोडल अधिकारी नामित किया गया हैं। उन्होंने बताया कि कार्य के सफल क्रियान्वयन के लिये जिला सूचना विज्ञान अधिकारी, लोक निर्माण विभाग के प्रातंीय खण्ड के अधिशासी अभियंता व ई-डिस्ट्रीक्ट मैनेजर को सह नोडल अधिकारी नामित करते हुए एक कमेटी गठित की गयी है।  ई-डिस्ट्रीक्ट मैनेजर मनोज यादव ने बताया कि प्रदेश के 18 मण्डलों में सरकार द्वारा एक एक मास्टर ट्रेनर भेजा गया है जो प्रत्येक मण्डल से सम्बंधित जनपदों में अलग अलग दिन अधिकारियों को प्रशिक्षण देंगे।  उन्होंने बताया कि ई-टेण्डरिंग के लिये सम्बंधित अधिकारी के डबल डिजीटल सिग्नेचर आवश्यक होंगे जिसमें एनस्क्रिप्ट व सिग्नेचर हैं।  मास्टर ट्रेनर राहुल मिश्रा ने बारिकी से प्रत्येक बिन्दु पर उपस्थित अधिकारियों को ई-टेण्डरिंग प्रक्रिया के बारे में बताया। इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 रामकुमार, डीएफओ अदिति शर्मा, एडीएम ई सत्य प्रकाश पटेल, एडीआईओ अमित सक्सैना सहित विभिन्न विभागों से आये अधिकारीगण उपस्थित रहे।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × three =