चीनी मिलों द्वारा गन्ना न लेने से परेशान किसानों के लिए खुशखबरी ! खेत में खड़ा गन्ना न लेने पर मिलों से होगी वसूली-डा0 प्रभात कुमार ,अनाधिकृृत रूप से क्रय केन्द्रों व मिलों को बंद करने पर होगी कड़ी कार्रवाई-आयुक्त

0
731

मेरठ। चीनी मिलों द्वारा गन्ना न लेने से परेशान किसानों के लिए खुशखबरी, अब चीनी मिलंे खेत में खड़ा गन्ना लेने से मना नहीं कर सकती हैं वर्ष 2015 में एक पीआईएल यचिका के सन्दर्भ में मा0 उच्च न्यायालय द्वारा दिये गये आदेशों का अनुपालन सुनिश्चित कराने के निर्देश आयुक्त डा0 प्रभात कुमार द्वारा दिये गये है। आदेश के अनुसार ऐसी ऐसी चीनी मिलें जो उन्हें आंवटित क्षेत्र में उपलब्ध गन्ने की बिना पेराई किये बिना ही अनाधिकृृत रूप से क्रय केन्द्रों को बंद कर देती है या बन्द हो जाती है, तो उनके विरूद्ध कठोर कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी साथ ही चीनी मिल द्वारा छोड़े गये समस्त अवेशष खड़े गन्ने के गन्ना मल्य की देयता भी उसी चीनी मिल पर निर्धारित की जायेगी।
आयुक्त डा0 प्रभात कुमार ने निर्देश दिये कि कोई भी चीनी मिल पेराई सत्र 2017-18 को तब तक समाप्त करने की घोषणा नहीं करेगी जब तक की मिल को आवंटित समस्त क्षेत्र के कृषकों का पेराई योग्य गन्ना समाप्त न हो जायें, यदि किसी चीनी मिल द्वारा ऐसा नहीं किया जाता है तो चीनी मिल के विरूद्ध कठोर कार्यवाही की जाएगी।
मा0 उच्च न्यायालय द्वारा पारित आदेश व गन्ना आयुक्त उ0 प्र0 के द्वारा निर्देशों के अनुक्रम में आयुक्त ने निर्देश दिये है कि समस्त क्रय केन्द्रों पर प्रतिदिन तौल कार्य कराया जाये तथा किसी भी क्रय केन्द्र को संबधित सचिव सहकारी गन्ना विकास समिति व जिला गन्ना अधिकारी से प्रामण पत्र प्राप्त करने के उपरान्त ही बंद करायें।
उन्होंने बताया कि सत्र 2017-18 हेतु अपने सुरक्षित /अभ्यर्पित क्षेत्र में उपलब्ध पेराई योग्य सम्पूर्ण गन्ने की पेराई करते हुए संबंधित सहकारी गन्ना विकास समितियों, जिला गन्ना अधिकारी तथा उप गन्ना आयुक्त से प्रमाण पत्र प्राप्त कर गन्ना आयुक्त उ0प्र0 से पूर्व अनुमति प्राप्त कर ही पेराई सत्र का समापन करना सुनिश्चित करें।
उन्होंने स्पष्ट निर्देश दिये है कि यदि स्वेच्छाचारी एवं मनमाने ढंग से प्रतिस्थापित विधिक व्यवस्था के प्रतिकूल जाकर किसी भी क्रय केन्द्र/चीनी मिल का संचालन बंद किया जाता है तो सम्बंधित क्रय केन्द्र/चीनी मिल को सत्र 2017-18 अवशेष सम्पूर्ण पेराई योग्य खड़े गन्ने के गन्ना मूल्य की देयता के मिल व क्रय केन्द्र के विरूद्ध कठोरतम दण्डात्मक विधिक कार्यवाही की जाएगी।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here