Tuesday, May 28

केन्द्रीय राज्यमंत्री की पत्नी डा0 सुनीता बालियान ने लिया वीआरएस

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मुजफ्फरनगर 13 दिसंबर । केंद्रीय पशुपालन राज्यमंत्री डॉ. संजीव बालियान की पत्नी सुनीता बालियान को वीआरएस मिल गया है। हरियाणा प्रांत के करनाल में वेटरनरी डॉक्टर के पद से सेवानिवृत्ति के उपरांत विदाई समारोह का आयोजन किया गया।

ज्ञातव्य है कि डॉ. संजीव बालियान की धर्मपत्नी डॉक्टर सुनीता बालियान हरियाणा पशुपालन विभाग में बतौर चिकित्सक के रूप में काम कर रही थीं। उन्होंने पिछले दिनों वीआरएस के लिए आवेदन किया था। सरकार ने उनका आवेदन स्वीकार कर लिया। इसके बाद करनाल में एक भव्य समारोह में उन्हें विदाई दी गई। इस मौके पर मंत्री डॉ. संजीव बालियान भी मौजूद रहे। डॉ. सुनीता बालियान के वीआरएस लेने के पीछे राजनीतिक कारण माना जा रहा है। संभावना है कि किसी विशेष परिस्थिति में उनको लोकसभा 2024 में चुनावी मैदान में उतरना पड़ सकता है। इसी को लेकर पहले से ही यह तैयारी की जा रही है।

केन्द्रीय राज्यमंत्री एवं मुजफ्फरनगर लोकसभा क्षेत्र से सांसद डा. संजीव बालियान 2024 में तीसरी बार अपनी सियासी पारी खेलने को तैयार हैं, लेकिन इस बार सामने आ रहे समीकरणों और विपक्ष की हर चुनौती से निपटने के लिए भी उन्होंने तैयारी की है। पीएम मोदी सरकार के दस साल के कार्यकाल के दौरान केन्द्र में मंत्री रहते हुए उन्होंने अपने लोकसभा क्षेत्र में असाधारण विकास कार्य कराये।

विकास की इसी बाती की रोशनी के तले वो लोकसभा चुनाव 2024 में एक बार फिर से मोदी की गारंटी लेकर जनता के बीच आने की पूरी तैयारी में कमर कस चुके हैं, लेकिन इसी बीच उन्होंने अपना प्लान बी भी तैयार रखा है। इसके तहत ही वो लगातार आगे बढ़ रहे हैं।

राजनीतिक पंडितों की माने तो मुजफ्फरनगर लोकसभा सीट पर एक बार फिर से संजीव बालियान के सामने पूर्व पीएम चौ. चरण सिंह के परिवार से सियासी चुनौती मिल सकती है। 2019 के चुनाव में उनके सामने विपक्ष के गठबंधन के साथ रालोद सुप्रीमो अजीत सिंह ने चुनाव लड़ा था और इस कांटे के मुकाबले में संजीव बालियान करीब साढ़े छह हजार वोटों के अंतर से जीते थे।

इस बार भी इसी परिवार से उनको चुनौती मिलने की संभावना है। सियासी पंडितों के अनुसार यहां पर अजीत सिंह की पुत्रवधु चारू चौधरी भी चुनाव लड़ सकती हैं। इसी की काट में संजीव बालियान अपनी पत्नी को चुनावी मैदान में लाने की तैयारी कर रहे हैं। उनकी पशु चिकित्सक पत्नी डा. सुनीता बालियान करीब एक साल से जनता के बीच बेहद सक्रिय नजर आ रही हैं। उनकी सक्रियता के कारण ही यह चर्चा जोर पकड़ती रही कि इस बार संजीव बालियान मौका देखकर सुनीता बालियान को भी टिकट दिला सकते हैं।

इन चचार्ओं में कभी हां और कभी ना वाली बात भी सामने आती रही, लेकिन अब सुनीता बालियान के एक फैसले ने इस चचार्ओं को कुछ बल दिया है। उन्होंने आखिरकार हरियाणा सरकारी की नौकरी को छोड़ दिया है। बताया गया कि उन्होंने हरियाणा सरकार के पशुपालन विभाग में वेटनरी चिकित्सक के पद से वीआरएस के लिए आवेदन किया था। वीआरएस स्वीकार होने पर बीती रात हरियाणा के करनाल स्थित एक होटल में विभागीय स्तर पर उनका सेवानिवृत्ति सम्मान समारोह आयोजित कर हरियाणा पशुपालन विभाग के वरिष्ठ अफसरों ने विभागीय दायित्वों की सेवा से निवृत्ति पर विदाई देते हुए स्मृति चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया। इस दौरान उनके पति सांसद और केन्द्र सरकार में पशुपालन, मत्स्य पालन एवं डेयरी विभाग के राज्यमंत्री डॉ. संजीव बालियान भी मौजूद रहे।

बता दें कि डॉ. सुनीता बालियान कृषि यूनिवर्सिटी हिसार में वेटनरी सर्जन के पद पर कार्यरत रहीं हैं। डा. संजीव बालियान की धर्मपत्नी सुनीता बालियान भी उनकी तरह ही वेटनरी चिकित्सक हैं। कभी दोनों ने हिसार के कृषि विश्वविद्यालय से एक साथ पीएचडी की थी। सांसद डा. संजीव बालियान शाहपुर ब्लाक के कुटबा-कुटबी गांव के रहने वाले हैं। कृषि यूनिवर्सिटी हिसार से वेटनरी एटॉनोमी में पीएचडी संजीव बालियान छात्र राजनीति में सक्रिय रहे हैं। इनके परिवार में दो बेटियां केतकी और ताज हैं। संजीव बालियान के पिता डॉ. सुरेंद्र पाल सिंह साधारण किसान हैैं। पैतृक गांव कुटबा-कुटबी में उनकी 80 बीघा कृषि भूमि है। उनके भाई विवेक बालियान कृषि और कार्य संभालते हैं।

Share.

About Author

Leave A Reply