Friday, March 1

ईडी अधिकारी 20 लाख रुपए रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार

Pinterest LinkedIn Tumblr +

डिंगिडुल 02 दिसंबर। तमिलनाडु के डिंगिडुल जिले में तमिलनाडु सतर्कता और भ्रष्टाचार निरोधक निदेशालय (डीवीएसी) के अधिकारियों ने ईडी अधिकारी को 20 लाख रुपए लेते हुए रंगे हाथ पकड़ा है। मिली जानाकारी के अनुसार, उन्होंने आय से अधिक संपत्ति के मामले में एक आरोपी डॉक्टर से केस बंद करने के लिए 20 लाख रुपए की रिश्वत ली है। डीवीएसी अधिकारी ने डॉक्टर से इस मामले में पूछताछ की और अब उसे डिंडीगुल में न्यायिक मजिस्ट्रेट के सामने पेश करने के लिए डीवीएसी कार्यालय से ले जाया गया है।

बताया जा रहा है कि अरोपी ईडी अधिकारी अपनी टीम के साथ डॉक्टर के पास पहुंचा था और उसे धमकाया। साथ ही प्रवर्तन निदेशालय में उनके मामले को बंद करने के नाम पर रिश्वत ले रहा था। डिंडीगुल के डीवीएसी अधिकारियों ने शुक्रवार तड़के मदुरै-डिंडीगुल फोर-वे लेन पर कोडईकनाल रोड टोल कलेक्शन प्लाजा के पास ईडी अधिकारी अंकित तिवारी को गिरफ्तार किया। अधिकारियों ने उनकी कार से 20 लाख रुपए नकद जब्त किए, जो उसे कथित तौर पर रिश्वत के रूप में मिले थे। पुलिस ने कहा कि तिवारी को पूछताछ के लिए डिंडीगुल में डीवीएसी कार्यालय ले जाया गया।

सूत्रों के मुताबिक, डिंडीगुल के सुरेश बाबू से मिली शिकायत के बाद पुलिस ने गुरुवार को मामला दर्ज किया था। शिकायतकर्ता ने कहा कि उसने डिंडीगुल के सरकारी अस्पताल में उपाधीक्षक के रूप में काम किया था। 2018 में उनके खिलाफ आय के ज्ञात स्रोतों से अधिक संपत्ति जमा करने का मामला दर्ज किया गया था। तिवारी ने कुछ महीने पहले उनसे संपर्क किया था और कहा था कि आय से अधिक संपत्ति के मामले में ईडी उनके खिलाफ जांच शुरू करेगी। बाबू के मुताबिक, ईडी अधिकारी ने उनसे तीन करोड़ रुपए रिश्वत की मांग की थी और उन्हें आरोप मुक्त करने का आश्वासन दिया था। हालांकि, उन्होंने मांग मानने से इनकार कर दिया था। इसके बाद तिवारी ने बाबू से 51 लाख रुपए देने के लिए बातचीत की। डॉक्टर ने कहा कि 1 नवंबर को उन्होंने मदुरै-नाथम रोड पर एक स्थान पर अंकित तिवारी को 20 लाख रुपए नकद सौंपे थे।

Share.

About Author

Leave A Reply