भाजपा के मंडल अध्यक्षों के चुनाव निश्चित, कई की हो सकती है छुटटी, उत्साही कार्यकर्ताओं को मिलेगा पद

0
126

मेरठ, 08 अक्टूबर (प्र)।       भविष्य में यूपी में होने वाले विधानसभा चुनावोें में जीत का परचम पुनः फहराने तथा आम मतदाताओं पर मजबूत पकड़ करने के अतिरिक्त कार्यकर्ताओं को सक्रिय बनाए रखने हेतु अब मंडलाध्यक्षों के चुनाव होना निश्चित नजर आ रहे हैं। चर्चा है कि इसमें कई पुराने दिग्गज मंडल अध्यक्षों की छुटटी हो सकती है और नए उत्साही कार्यकर्ताओं को मिल सकता है मंडल अध्यक्ष का पद। जैसा कि कहा जा रहा है इस बार कार्यकर्ताओं को नेतृत्व से जोड़े रखने के लिए सांसद विधायकों व मंत्रियों का मंडल अध्यक्षों की तैनाती में कोई विशेष भागीदारी नहीं होगी।

जल्द ही होने वाले मंडल अध्यक्षों के लिए तैयारियां भी शुरू हो गई बतायी जाती है। बताते हैं चलें कि बूथ अध्यक्षों के चुनाव के बाद अब भाजपा नेतृत्व मंडल अध्यक्षों को लेकर सख्त हो गया है। महानगर और जिले के मंडल अध्यक्षों में से आधे से अधिक की छुट्टी होना लगभग तय है। पार्टी की गाइडलाइन के आधार पर ही मंडल अध्यक्ष बनेंगे। विधायक, सांसद के जेबी अध्यक्ष कोई नहीं होगा। बहुमत से या आपसी सहमति के साथ योग्यता के आधार पर ही मंडल अध्यक्षों का चुनाव होगा।

भाजपा नेताओं के अनुसार इस बार नेतृत्व की ओर से मंडल अध्यक्ष के लिए उम्र 40 साल से अधिक और लगातार दो बार अध्यक्ष होने को अयोग्यता माना है। यदि किसी मंडल के आधे से अधिक बूथ अध्यक्षों ने किसी के खिलाफ लिखकर व्यक्ति विशेष की ओर से दबाव की बात कही तो कार्रवाई होगी। सांसद, विधायकों को मंडल अध्यक्षों के चुनाव से दूर रहने को कहा गया है ताकि पार्टी में कार्यकर्ताओं को आगे लाया जा सके। चुनाव अधिकारियों को निर्देश है किसी सांसद, विधायक के जेबी व्यक्ति के नाम पर विचार न करें। मंडल अध्यक्षों के चुनाव में बूथ अध्यक्षों की राय को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जाएगी। नेतृत्व की ओर से कई शर्त लगा दिए जाने के कारण भाजपा में मंडल अध्यक्ष चुनाव को लेकर गहमागहमी तेज हो गई है।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

sixteen + 1 =