हुक्का-पानी लेकर ऊर्जा भवन पर जमे किसान, व्यापारियों ने संभाले घड़े-लालटेन

0
339

मेरठ 30 अगस्त। बिजली के दर्द बर्दाश्त नहीं हो रहे तो पश्चिमी यूपी के किसानों ने हुक्का-पानी लेकर मेरठ के ऊर्जा भवन के घेर लिया है। भाकियू ने सुबह होते ही बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं के साथ मेरठ कूच कर दिया। बड़ी संख्या में जुटे किसान और कार्यकर्ताओं ने बिजली की बढ़ी दरें और अन्य समस्याओं के खिलाफ आवाज बुलंद की। दूसरी ओर, बिजली समस्या से जूझ रहे मेरठ के व्यापारियों ने चीफ इंजीनियर के सामने घड़े फोड़े और उन्हें लालटेन भेंटकर आपूर्ति में सुधार की मांग उठाई।ऊर्जा भवन पर पश्चिमी यूपी से बड़ी संख्या में जुटे किसान भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत के नेतृत्व में बिजली से जुड़ी 21 मांगों को लेकर लेकर ऊर्जा भवन पर धरना दे रहे हैं। भाकियू नेताओं का कहना है कि महंगी बिजली, भारी कटौती और बेवजह की छापेमारी से हो रहे उत्पीड़न जैसी दिक्कतों से जूझ रहे किसान सरकार से तुरंत राहत की मांग कर रहे हैं। सरकार इस ओर ध्यान नहीं दे रही। इसकी वजह से किसानों में गुस्सा है। इसी वजह से ऊर्जा भवन पर प्रदर्शन कर शुरू कर दिया है। यह आंदोलन पश्चिमांचल, पूर्वाचंल, मध्यांचल में एक साथ किया जा रहा है।
व्यापारियों ने चीफ इंजीनियर को घेरा, फोड़े घड़े किसान आंदोलन के साथ मेरठ के व्यापारी भी बिजली समस्या को लेकर मुखर हो गए हैं। संयुक्त व्यापार मंडल संगठन के पश्चिमी यूपी अध्यक्ष पंडित आशू शर्मा, सरदार मंजीत सिंह कोछड़, अंकित प्रजापति, सुमेर सिंह धार, बुंदू खां अंसारी के नेतृत्व में व्यापारी विक्टोरिया पार्क स्थित मुख्य अभियंता मेरठ जोन एसबी यादव के दफ्तर पहुंचे। व्यापारियों ने मुख्य अभियंता से शहर में बिजली की अंधाधुंध कटौती को लेकर चिंता जताई। कहा कि इसका सीधा असर व्यापार-कारोबार पर पड़ रहा है। व्यापारियों ने घड़े और लालटेन मुख्य अभियंता की मेज पर रख दी और बिजली आपूर्ति में सुधार की मांग की। साथ ही चेतावनी दी कि एक सप्ताह में शहर में बिजली आपूर्ति में सुधार और उपभोक्ताओं की समस्याओं का समाधान नहीं हुआ तो वह आंदोलन करेंगे। जरूरत पड़ी तो बिजलीघरों से लेकर अफसरों के दफ्तरों तक तालाबंदी कर देंगे।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

nineteen + 19 =