Thursday, June 13

मेरठ पहुंचे गदर-2 के विलेन मनीष बाधवा, बोले- ‘अमरीश जी को रिप्लेस करना नामुमकिन

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ 22 सितंबर (प्र)। फिल्म में विलेन के रोल के लिए मनीष बाधवा की जहां जमकर तारीफ हो रही है तो वहीं अभिनेता ने इस फिल्म को लेकर एक बड़ा खुलासा कर सबको हैरान कर दिया है। फिल्म गदर-2 के विलेन और मशहूर बॉलीवुड अभिनेता मनीष बाधवा शहर के थापरनगर पहुंचे। यहां उनसे मिलने वालों का तांता लगा रहा।
इस दौरान अभिनेता ने मीडिया कर्मियों से रूबरू होते हुए बताया कि अमरीश जी विलेन के रोल में थे। हामिद इकबाल जो मेरा किरदार रहा, फिल्म में वो भी विलेन का है। अमरीश जी को रिप्लेस करना नामुमकिन है। जो लोग कंपेरिजन भी कर रहे हैं, वो नहीं हो सकता। क्योंकि तुलना बराबर वालों में होती है, अमरीश जी का दर्जा बहुत ऊपर है। मैं उनके पास भी नहीं पहुंच सकता। उसे टच भी कर लूं तो मेरे लिए गर्व की बात होगी। ये उन्हीं का आशीर्वाद है कि मैं अपना रोल अच्छे से निभा सका। ये रोल अमरीश जी को ट्रिब्यूट है। एक आइकॉनिक मूवी पार्ट-2 में आती है तो दुनिया की निगाहें उस पर होती हैं कि क्या होगा। वो चैलेंज मेरे क्या सभी के सामने था। गाने, स्टोरी, हर अभिनेता के लिए चैलेंज था कि हमें पसंद किया जाएगा या नहीं। मगर वक्त के साथ सारे चैलेंज पूरे हो गए। हामिद इकबाल, मुझे बहुत पसंद आता है और तारा सिंह के बिना गदर नहीं हो सकता। सकीना, जीते, अनिल जी सभी जरूरी हैं। गदर 2 ये सबकी मेहनत, प्रतिभा और लगन का मिश्रण हैं।

मनीष बाधवा ने बताया कि जब उन्हें गदर-2 आॅफर हुई तो उन्हें लगा कि कुछ अच्छा होने वाला है। हालांकि, कुछ लोगों ने उनसे कहा था कि मनीष, तुम्हें इंतजार करना चाहिए, ऐसा मत करो। 22 साल बाद आ रही है गदर, पता नहीं क्या होगा? मनीष बाधवा आगे कहते हैं कि सब ईश्वर की कृपा और दुनियाभर के फैंस का प्यार है।
मनीष कहते हैं कि करेक्टर कोई भी हो हमारा काम है, उसमें परफेक्शन देना वह हमने करने की भरपूर कोशिश की है और दर्शकों का भरपूर प्यार मिला। इसके लिए हम उनके शुक्रगुजार हैं। मनीष बाधवा ने बताया कि जब उन्हें अलग किरदार की भूमिका मिलती है तो हम उसे एक चैलेंज की तरह लेते हैं और अपनी जान लगाकर चैलेंज को पूरा करते हैं।आगे काम दर्शकों का है जो भरपूर प्यार लुटा रहे हैं। अभिनेता ने बताया गदर-2 की अपार सफलता का अंदाजा हमको भी नहीं था मगर ईश्वर को जो मंजूर था व मिला। जब मैं सनी पाजी से मिलने गया तो उन्होंने बातचीत के बाद फिल्म करने के लिए हामी भर दी। मगर एक डर तो था मन में कि यदि ये फिल्म नहीं चली तो पिछली गदर फिल्म का जो समाज में प्यार मिला है। उस पर कोई निगेटिव असर न चला जाए।

इस दौरान मनीष वाधवा ने पहले रेशमा का गीत लंबी जुदाई सुनाया। अपने दोस्तों का जन्मदिन भी केक काटकर सेलिब्रेट किया। मनीष के 3 कजिन भाई और बुआजी मेरठ में रहती हैं, उनसे मिलने भी मनीष मेरठ आते रहते हैं। मेरठ में अरिहंत ज्वेलर्स के संचालक रितेश जैन के परिवार में मनीष वाधवा का पुराना नाता है। पिछले 10 सालों से दोनों परिवार एक दूसरे के बेहद करीबी मित्र हैं। मनीष जब भी दिल्ली जाते हैं मेरठ में रितेश जैन के घर अवश्य आते हैं।

Share.

About Author

Leave A Reply