1982 में गठित गंज बाजार व्यापार संघ दो गुटों में बंटा,नवीन गुप्ता और अरूण वशिष्ट का समर्थन प्राप्त होने की है चर्चा

0
836

मेरठ 28 नवंबर। संयुक्त व्यापार संघ के संस्थापकों में से एक और इसके पहले महामंत्री डा. ब्रजभूषण गोयल के प्रयासों से 1982 के आसपास गठित गंज बाजार व्यापार संघ के पहले अध्यक्ष ओमप्रकाश गुप्ता, महामंत्री रवि कुमार विश्नोई और कोषाध्यक्ष रामजीवन गुप्ता पदाधिकारी के रूप में चूने गए थे ओर पूरी एकता के साथ कार्यकारिणी बनी थी।
उसी दौरान सेलटैक्स को लेकर प्रदेश व्यापारी आंदोलन चला और दिल्ली में उस समय के व्यापार मंडल के राष्ट्रीय अध्यक्ष भीकू राम जैन सदस्य के नेतृत्व में कई किलो मीटर लंबा जुलूस निकला जिसमे ब्रजभूषण गोयल व सुंदर लाल जैन अध्यक्ष संयुक्त व्यापार संघ के नेतृत्व में गंज बाजार के व्यापारियों ने भाग लिया और एकता का परिचय दिया।

इस जुलूस और प्रदर्शन की दिल्ली के रामलीला मैदान में हुई सभा में डालमिया नानकी पालीवाल और बजाज जैसे बड़े उद्योगपतियों की उपस्थितियों में डा. ब्रजभूषण गोयल, रवि कुमार विश्नोई ने भी अपने विचार रखे थे। उसके बाद अब लगभग 35 साल बाद गंज बाजार व्यापार संघ पुनः चर्चाओं में है क्योंकि बीते दिनों इसके चुनाव में अध्यक्ष पद पर संजय जैन महामंत्री सतेंद्र अग्रवाल, कोषाध्यक्ष चिराग सिंघल, वरिष्ठ उपाध्यक्ष पंकज जैन, मंत्री अजय जैन, संघरक्षक दिनेश सिंघल पूर्व की भांति बने रहे। गत दिवस दिनेश सिंघल की उपस्थिति में बताते हैैं कि संजय जैन व सतेंद्र अग्रवाल के हस्ताक्षर से युक्त प्रमाण पत्र सदस्यों को बांटे गए। सतेंद्र अग्रवाल का कहना है कि उनका चुनाव बाजार के 53 व्यापारियों से 49 की मौजूदगी में हुआ है।

लेकिन इस चुनाव को सही न मानते हुए बाजार के व्यापारी रूपक अग्रवाल ने इसके खिलाफ आवाज बुलंद की।
उनका कहना था कि चुनाव वोट के माध्यम से होना चाहिये। मगर उनकी बात नहीं मानी गई। परिणाम स्वरूप बीती 27 नवंबर को संयुक्त व्यापार संघ के नेता राज कुमार कोशिक और आशू गुप्ता की मौजूदगी में नए चुनाव हुए जिसमे निर्मल गोयल अध्यक्ष , रूपक अग्रवाल महामंत्री, विजय शर्मा वरिष्ठ उपाध्यक्ष, आकाश चैहान, अंकित कौशल कोषाध्यक्ष चुने गए।

दोनों ही संगठनों के पदाधिकारियों द्वारा दावा किया जा रहा है कि व्यापारी हितों की लड़ाई लड़ने के लिये काम करेंगे और उनका ही संगठन असली है। तथा गंज बाजार वयपार संघ में किसी प्रकार की कोई फूट नहीं है और नही दो फाड हुआ है। लेकिन अपना नाम न छापने की शर्त पर कुछ व्यापारियों द्वारा कहे गए यह शब्द काफी वजन रखते हैं कि अगर सब एक है और फुट नहीं है तो दो संगठन क्यों बनें।

चर्चा है कि दोनों गुटों को संयुक्त व्यापार संघ का पदाधिकारियों का संरक्षण प्राप्त है। एक नवीन गुप्ता के निकट बताया जाता हैं तो दूसरे विजेंद्र अग्रवाल और अरूण वशिष्ट के निकट समझेे जाते है। कल क्या होगा वो एक अलग बात है। लेकिन फिलहाल गंज बाजार व्यापार संघ दो गुटों में बंट गया है। बाजार में चर्चा है कि एक गुट के सेकेटरी द्वारा एक विशेष वर्ग के व्यापारियों को बढावा दिया जा रहा है इसलिये भी व्यापार संघ दो गुटों में बंट गया। फिलहाल सतेंद्र अग्रवाल, गुट के सर्वे सर्वा वार्ड पांच के पार्षदा अनिल जैन व कैंट विधायक सत्यप्रकाश अग्रवाल, बताए जा रहे हैं। तो दूसरा गुट को नवीन गुप्ता, उनके सहयोगियों तथा बडे नेताओं का वृहद अस्त प्राप्त बताया जा रहा है।
समाचार लिखे जाने तक यह पता नहीं चल पाया कि व्यापार संघ के चंदे का पैसा कौन से गुट के पास रहेगा और बैंक में उसका संचालन कौन करेगा।

चर्चा थी कि अभी किसी को भी संयुक्त व्यापार संघ की ओर से मान्यता नहीं मिली। एक गुट डिप्टी रजिस्टार चीट फंड सोसायटी कार्यालय में भी अपना रजिस्टेशन कराने पर चर्चा कर रहा है। आम व्यापारी किसी के समर्थन में कुछ नहीं बोल रहे। पूछने पर एक पुराने व्यापारी का कहना था कि हमे व्यापार करना है सबके साथ हैं कोई परेशानी होगी तो दोनों से सहयोग मांग लेंगे। संवादद सूत्रों पर आधारित.

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here