कमिश्नर साहब आप कराये पुष्पदीप साड़ी सेन्टर के अवैध रूप से बने शोरूमो की जांच। जोन में सबसे ज्यादा अवैध निर्माण हो रहे बताये जाता है। आखिर जोनप्रभारी क्यो बचाने में लगा है अवैध निर्माण।

0
256

मेरठ 4 सिंतबर। लगभग एक हफते पहले दैनिक केसर खुशबू टाइम्स द्वारा जीमखाना मैदान के निकट स्थित पुष्पदीप साड़ी व सोतीगंज में हुए काॅमेपक्स अवैध निमार्णाे को लेकर खबर छापी गई । बाद में एक प्रातकालिन समाचार पत्र ने ये खबर छापी अवैध निर्माण रोकने के लिए जिम्मेदार एमडीए के अधिकारियो ने अवैध निर्माण कर्ता के विरूध कार्यवाही करने की बजाय जौन प्रभारी सोतीगंज का निर्माण तो पूरी तौर पर पचां गये और पुष्पदीप साड़ी के अवैध निर्माण को बचाने के लिए खुद पार्टी बनकर बयान देते नजर आ रहे है।इनका कहना है की अवैध निर्माण की खबर पर एमडीए ने संज्ञान लिया। जोनल अधिकारी ने गत सोमवार को पुष्पदीप साड़ी शोरूम का नक्शा देखा। हालांकि, इनके पुराने मानचित्र को वर्ष 1967 में पास कर दिया गया था। वहीं नए मानचित्र की कंपाउंडिंग 22 जून 2019 के को करा ली गई थी। इसके लिए एमडीए के खाते में दो लाख रुपये की राशि भी जमा करा दी गई थी। पुष्पदीप साड़ी शोरूम के मालिक सौरभ का कहना है कि अवैध निर्माण जैसा कोई मामला नहीं है। हमारा मानचित्र एमडीए से नियमानुसार स्वीकृत है।
इस खबर को पढ़कर जागरूक नागरिक अशर्चयचाकित है कई का कहना है की जोन प्रभारी ने शोरूम मालिक से मिली भक्त के चलते यह बयान दिया वरना पहली बात तो यह है की 1967 के पास मानचित्र का कोई महत्व ही नही है। मानचित्र दुबारा पास होना चाहिए था। और अपने देश और प्रदेश की किसी भी निर्माण नीति के तहत पुष्पदीप साड़ी और उसके अन्य शोरूमो का नक्शा पास और कम्पाउड नही हो सकता।कई लोगो का कहना है की यह स्थान रिहासी है जिसका पूर्ण काॅमशियल रूप से अगर कोई मानचित्र है तो उसके और निर्माण नीति के विरूद्ध अवैध रूप से बनाया गया है।
जागरूक नागरिको का मानना है कि एमडीए वीसी से तो उनकी कार्यप्रणाली को देखकर नही कहा जा सकता की वो कार्यवाही करेंगे। इसलिए मेरठ मंडलयुक्त अपने स्तर पर पुष्पदीप साड़ी के सभी शोरूमो और सोतीगंज में अवैध रूप से बनी दुकानो की जांच कराने के साथ ही इस क्षेत्र के जोनप्रभारी और जेई तथा एई की भूमिका की भी जांच करायेे।जोन में सबसे ज्यादा अवैध निर्माण हो रहे बताये जाता है।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

7 − 1 =