लाॅकडाउन का शहर में नजर आया असर, पुलिस और प्रशासन के अधिकारी घूमते दिखाई दिए मंडी में दिखी भीड़

0
92

मेरठ, 25 मार्च (शहर संवाददाता) कोरोना वायरस के प्रकोप को समाप्त करने के लिए अपने संबोधन में गत रात को प्रधानमंत्री मोदी द्वारा 21 दिन के लिए देशभर में किए गए लाॅकडाउन का असर आज सुबह से ही सड़कों पर दिखाई देना शुरू हो गया था। सुरक्षाकर्मियों द्वारा मुख्यमार्गों पर आने जाने के दो में से एक रास्ते को लाॅक किया गया था और दूसरे से भी जिन लोगों को बंद में छूट मिली हुई है वो ही आ और जा पा रहे थें कई जगह पुलिसकर्मी आने जाने वाले को रोकते और समझाबुझाकर वापस भेज रहे थे। दिन में हर समय गुंजायमान रहने वाले दिल्ली रोड को हापुड़ रोड से लिंक करने वाला सोतगंज के रास्ते को एक बस लगाकर रोक दिया गया। था। सदर सब्जी मंडी सहित शहर के मुख्य बाजारों में जिन दुकानों को कुछ समय के लिए सामान बेचने की छूट दी गई है। उन पर खरीददारों का मेला सा लगा रहा। देहली रोड स्थित नवीन मंडी में सब्जी और फल खरीदने वालों की भीड़ लगी थी। एक बात जो विशेष रूप से दिखाई दी वो ये थी कि कुछ फल और सब्जी विक्रेता जो बढ़िया क्वालिटी की सब्जियां और फल सस्ते दरों में बेच रहे थे वहीं कुछ दुकानदार ज्यादा दाम में बेच रहे थे। इससे चर्चा थी कि कुछ जमाखोरों व मुनाफाखोरों के कारण व्यापारी बदनाम होते हैं। माता के मंदिर बंद होने से कश्मीरी पंडितों द्वारा अपने घर पर ही नवग्रह पर थाल सजाए गए। दूसरी तरफ स्थानीय मेडिकल में 320 बेडों के क्वारनटाइन वार्ड के लिए कैंपस में चार स्थलों को चयनित किया गया है। तो 58 निजी अस्पताल भी कोरोना से बचाव के लिए अपने यहां वार्ड बनाने की तैयारी कर रहे हैं।
गत दिवस शहर के मेरठ नमकीन व कलकत्ता स्वीटस आदि समेत व्यापारियों पर 55 दर्ज मुकदमे दर्ज किए गए और कुछ प्रतिष्ठानों को सील किया गया।आज भी कई जगह कार्रवाई होने की चर्चा थी लेकिन पूरी सूचना समाचार लिखे जाने तक प्राप्त नहीं हो पाई।
गत सायं को जो मौसम बिगड़ा था आज शहर में उसका कहीं कोई असर नहीं दिखाई दिया। सुबह से ही धूप निकलनी शुरू हो गई थी और घमस के बावजूद सड़कों पर काफी तादात में नागरिक दिखाई दिए।
बताया जा रहा था कि अनावश्यक आवागमन को रोकने हेतु 48 जगहों पर बैरियर लगाए गए।
तथा पानी की आपूर्ति के लिए शहर में 55 एमएलडी गंगाजल की सप्लाई की गई। पुलिस और प्रशासन के अधिकारी सुबह से ही सड़कों पर घूमते दिखाई दिए जिससे यह लगता था कि प्रशासन प्रधानमंत्री के सख्ती करने के निर्देशों का हर हाल में पालन करने के लिए कटिबद्ध नजर आया। इसके अतिरिक्त शहर में चारों तरफ जगह जगह कहीं बल्ली लगाकर तो कहीं ठेले संपर्क मार्ग भी मुख्य सड़कों के पुलिस प्रशासन द्वारा बंद कर दिए गए थे। लेकिन शहर से खबर लिखे जाने तक किसी अप्रिय घटना की खबर नहीं थी। कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि अफसर जान बूझकर नागरिकों को कोई कष्ट पहुंचाने के मूड में नजर नहीं आ रहे थे।
सूना पड़ा ट्रांसपोर्टनगर                                      बागपत रोड पर हल्की फुल्की आवाजाही


सूनसान नजर आ रहा बेगमपुल चैराहा                    बस खड़ी कर रोका गया सोतीगंज का रास्ता

रूड़की रोड से होकर जाता ट्रक व रूड़की पर थोड़ी आवाजाही


जमाखोरी या जरूरत: टैक्टर ट्राॅली पर सामान लादकर ले जाते लोग

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

13 + 4 =