वर्चस्व की जंग और गैंगवार कनेक्शन में हुई रहीसुद्दीन की हत्या

0
1049

मेरठ 18 अक्टूबर। दिल्ली रोड पर फल मंडी के प्रधान की हत्या के पीछे वर्चस्व की जंग और गैंगवार कनेक्शन सामने आया है। पुलिस ने अब तक की छानबीन के बाद हत्या करने वाले शूटर को चिन्हित कर लिया है। दो आरोपियों की गिरफ्तारी कर ली गई है। पूछताछ के बाद खुलासा हुआ कि पांच लाख रुपये की सुपारी देकर कत्ल कराया गया। इस दौरान जिन आरोपियों को वारदात अंजाम देने का जिम्मा दिया गया था, उन्हें तीन दिन तक मंडी की रेकी कराई गई थी।
इसके बाद सोमवार सुबह प्रधान का कत्ल कर दिया गया। फल मंडी के प्रधान रहीसुद्दीन की गत दिवस की सुबह करीब 10 बजे मंडी में ही गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।
इस वारदात में शारिक गिरोह के शूटर का नाम सामने आया था। पुलिस ने छानबीन शुरू की तो पता चला कि वर्चस्व की जंग और गैंगवार कनेक्शन के चलते रहीसुद्दीन की हत्या की गई। दरअसल, रहीसुद्दीन और पूर्व पार्षद आरिफ दोनों ही अच्छे दोस्त थे। रहीसुद्दीन की कोतवाली के ही अनीसू पंडित से भी दोस्ती थी। कुछ माह पूर्व आरिफ की शारिक गैंग ने गैंगवार के चलते कोतवाली में गोलियां बरसाकर हत्या कर दी थी। अनीसू की भी हत्या हो चुकी है। शारिक को शक था कि उसके दुश्मन सलमान को प्रधान रहीसुद्दीन मदद कर रहा है। इसी दौरान रहीसुद्दीन के विरोधी सलीम और रियाजुद्दीन मदद के लिए शारिक से मिलने जेल पहुंचे थे। इनकी मुलाकात का इंतजाम रियाजुद्दीन के एक रिश्तेदार ने कराई और रहीसुद्दीन की हत्या के लिए पांच लाख रुपये की सुपारी दी गई।
एक शूटर को बाहर से बुलाया गया और इसके बाद मंडी में तीन दिन तक रेकी कराई गई। रहीसुद्दीन की पहचान भी कराई पुलिस ने इसी इनपुट के आधार पर दो आरोपियों सलीम और उसके बेटे शाकिब को गिरफ्तार कर लिया है। इतना ही नहीं पुलिस बाकी आरोपियों की तलाश कर रही है।
इस पूरे मामले में अब पीड़ित परिवार ने सुरक्षा मांगी है। वहीं इस घाटना के संबंध में दो एसओ टीपीनगर ब्रिजेश शर्मा ने बताया कि आरोपियों सलीम और शाकिब को गिरफ्तार किया गया है। शूटर के बारे में अभी जानकारी नहीं मिल सकी है। वर्चस्व को लेकर वारदात अंजाम दी गई है।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here