लाखों कांवड़ियों व शिवभक्तो ने पुरा महादेव व कालीपल्टन सहित शिवालयों पर चढ़ाया जल

0
363

मेरठ 30 जुलाई (प्र0)। शिवरात्रि के पावन पर्व पर आज बागपत के पुरामहादेव और महानगर के कालीपल्टन मंदिर में लाखों शिवभक्तों व कांवड़ियों के द्वारा जल अर्पण किया गया भारीसुरक्षा व्यवस्था के बीच मंदिरों के बाहर भक्तो की भीड़ लाईनों में लगी थी ओर भगवान भोले शंकर को जल चढ़ाने हेतु अपनी बारी आने का इंतजार कर रही थी। श्रावण मास की शिवरात्रि पर सोमवार आधी रात से ही आस्था के प्रमुख केंद्र बाबा औघड़नाथ मंदिर पर जलाभिषेक के लिए कांवड़ियों और शिव भक्तों का तांता लग गया। जिधर देखो वहीं भगवा रंग नजर आ रहा है। मंदिर परिसर और आसपास का इलाका हर-हर महादेव और बोल बम बोल बम के उद्घोष से गूंज रहा है। हरिद्वार से पवित्र गंगाजल लेकर कांवड़िये नैंसी चैराहा और वेस्ट एंड रोड की तरफ से औघड़नाथ मंदिर पहुंच रहे हैं। मंदिर परिसर में ही इनके रुकने का इंतजाम किया गया है। सुरक्षा की दृष्टि से एटीएस कमांडो और पैरा मिलिट्री फोर्स तैनात हैं। पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी आधी रात के बाद तक सुरक्षा व्यवस्थाओं का जायजा लेते रहे। मंदिर प्रशासन के अनुसार बीते साल त्रयोदशी और चतुर्दशी में करीब पांच लाख शिव भक्तों ने जलाभिषेक किया था। उधर, शनि देव मंदिर वेस्ट एंड रोड और आसपास के प्रमुख मंदिरों में भी कांवड़ियों का हुजूम देखने को मिला।बाबा औघड़नाथ मंदिर में भगवान आशुतोष पर जलाभिषेक के लिए भक्तों को गरुड़ द्वार से प्रवेश दिया गया। महिलाओं और पुरुषों की अलग-अलग लाइनें लगी हैं। शिवभक्तों की सुरक्षा और सुविधा के लिए बैरिकेडिंग की गई है। वहीं औघड़नाथ मंदिर परिसर ही नहीं बल्कि नैंसी चैराहा से एमएच अस्पताल तक, अन्नपूर्णा मंदिर मार्ग पर भक्तों की भीड़ लगी रही। सोमवार दोपहर से ही कांवड़िये यहां पहुंचने शुरू हो गए। बाबा औघडनाथ मंदिर ही नहीं बल्कि शहर के बिल्लवेश्वर नाथ महादेव मंदिर सदर, झाड़खंडी शिव मंदिर नगर निगम परिसर, नागेश्वर महादेव मंदिर दिल्ली रोड, बाबा मनोहरनाथ मंदिर सूरजकुंड, धर्मेश्वरनाथ महादेव मंदिर बुढ़ाना गेट पर भी शिवभक्तों की भीड़ रही। बम बम भोले के उदघोष के साथ जलाभिषेक किया गया। घंटे और घडियालों से मंदिर गूंज रहे हैं। गढ़ रोड स्थित राज राजेश्वरी मंदिर में रुद्राभिषेक का आयोजन हुआ। उधर, लालकुर्ती स्थित रामसंकीर्तन मंदिर में शिव महापुराण का पाठ हुआ। सूरजकुंड स्थित बाबा मनोहर नाथ मंदिर में गुरु मां निलिमानंद महाराज के सानिध्य में पूजन हुआ। उधर, करीमनगर स्थित शिव मंदिर में महाआरती हुई। सुपरटेक स्थित शिव मंदिर में आचार्य कौशल वत्स ने विधि विधान से पूजन किया। गांधी आश्रम स्थित हनुमान मंदिर और शिव मंदिर सहित ब्रह्मपुरी स्थित शिव मंदिर में भी पूजन हुआ। कांवड़ियों की सुरक्षा में लगाए गए 130 कैमरों का कंट्रोल रूम औघड़नाथ मंदिर में बनाया गया है। मंदिर परिसर में भी 22 कैमरे लगे हैं। इन सभी कैमरों से पल्लवपुरम से लेकर तेजगढ़ी तक की निगरानी की जा रही है। आठ लोगों की टीम कंट्रोल रूम में 24 घंटे तैनात है।औघड़नाथ मंदिर प्रांगण में प्रथम तल पर 130 कैमरों के लिए 13 स्क्रीन लगाई गई हैं। मंदिर में बैठे अधिकारी मंदिर सहित पल्लवपुरम से लेकर तेजगढ़ी और दिल्ली रोड पर शाॅप्रिक्स माॅल तक सभी चैराहों पर नजर रख रहे हैं।कालीपल्टन मंदिर पर समिति के अध्यक्ष डाॅ. एमके बंसल महामंत्री सतीश सिंह, कोषाध्यक्ष अतुल अग्रवाल ब्रजभुषण गुप्ता, सुनील गोयल, सुधीर अग्रवाल आदि विशेष योगदान कर रहे थे मंदिर के चारो और समाज सेवी संगठनों द्वारा कैम्प लगाकर कांवड़ियो को चिकित्सा सुविधा व प्रसाद, गंगाजल उपलब्ध कराया जा रहा था।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × one =