लक्ष्मीकांत वाजपेई व योगेश वर्मा की सहनशीलता के चलते बड़े विवाद से बचा शपथ ग्रहण समारोह

0
1727

मेरठ 13 दिसंबर। नगर निगम की सातवी महापौर सुनीता वर्मा के शपथ समारोह को जिस प्रकार पुलिस द्वारा छावनी का रूप सुरक्षा के नाम पर दिया गया और अंत समय में सारी व्यूह रचना उसकी किसी बात को लेकर धरी रह गई क्योंकि ज्यादातर लोग बाहर रूकने के बजाए शपथ समारोह स्थल पर पहुंच गए थे। ऐसे में भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डा. लक्ष्मीकांत वाजपेई तथा मेयरपति पूर्व विधायक योगेश वर्मा का सहयोग और सूझबूझ की सराहना की जानी चाहिये। क्योंकि दोनों के समर्थक भारी संख्या में वहां मौजूद थे। अगर जरा भी विद्रोह होता तो वहां की स्थिति कुछ ओर हो सकती थी। लेकिन पहले पहुंचे वरिष्ठ भाजपा नेता और नगर निगम क्षेत्र वाले विधानसभा क्षेत्र से कई बार विधायक रहे लक्ष्मीकांत वाजपेई को मंच पर बैठाने की पेशकश की गई । इस प्रकार जब मेयर पति वहां पहुंचे तो योगेश वर्मा से भी व्यवस्था में लगे अधिकारियों ने मंच पर चलकर बैठने का आग्रह किया। जिसे उन्होंने भी बडे ही प्यार से उसे नाकार दिया और महापौर का शपथ समारोह वंदेमातरम व जयभीम के नारों के बीच आसानी से संपन्न हो गया। अगर डा. लक्ष्मीकांत वाजपेई मंच पर पहुंचते तो वहां कई ओर पूर्व विधायक मौजूद थे तो उनक ेसमर्थकों द्वारा इस बात को लेकर हंगामा किया जा सकता था तो योगेश वर्मा की मंच पर उपस्थिति को लेकर भी कुछ ऐसा ही हो सकता था क्योंकि दोनों ही दबंग छवि के स्पष्टवादी नेता है। और इनकी अपनी सोच और जनसमर्थन व जाधानार भी खूब है ऐसे में जब इनके मंच पर बैठने को लेकर बवाल होता तो शायद पुलिस के बस में उसे संभालना संभव नहीं होता।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here