मास्क बिना नहीं मिलेगा मदिरा, पेट्रोल खाद्य सामग्री, ऐलान करने वाले पालन भी कराएं

0
202

कोरोना संक्रमण रोकने और इसे पूरी तौर पर समाप्त करने के लिए देश में सभी के द्वारा हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। बस कुछ लोग लाॅकडाउन के नियमों का पालन ना कर कहे अनकहे रूप में इसे बढ़ावा देने के लिए जिम्मेदार कहे जा सकते हैं। दूसरी लहर समाप्त हो रही है तीसरी के आने का अंदेशा नहीं है। फिर भी बचाव के दृष्टिकोण से होटल वाला हो या दुकानदार पेटोल पंप वाले हो या धार्मिक स्थान वाहन चलाने वाले हो या सवारी ढोने वाले लगभग सबके द्वारा घोषणा की जा रही है कि मास्क लगाकर ना आने वालों को अटेंड नहीं किया जाएगा। मास्क नहीं तो मदिरा नहीं। सुनने और पढ़ने मेें यह सब बहुत अच्छे लग रहे हैं। और उन लोगों की तारीफ भी की जा रही है जो इस प्रकार की घोषणाएं कर रहे हैं। मगर सबसे बड़ी बात यह है कि यह बयानवीर ग्रामीण कहावत हाथी के दांत खाने के और दिखाने के और को सााकार कर रहे हैं। अपने कथन का पालन करने की बजाय जहां तक दिखाई दे रहा है ऐसा करने वाले संक्रमण को बढ़ावा अपनी बात का पालन ना कराकर देने में भूमिका निभाने के लिए जिम्मेदार ठहराए जा सकते हैं क्योंकि इनके द्वारा मास्क ना लगाने पर ना दिया जाएगा सामान होटलों और दुकानों में प्रवेश से जिम्मेदार अधिकारी सोचते हैं कि यह लोग मास्क लगाने के लिए प्रेरित कर रहे है तो हम कोरोना महामारी को रोकने और लाॅकडाउन के नियमों का पालन कराने के और काम पूरे कर लें लेकिन इनके द्वारा ऐसा ना किए जाने से जो लोग इसके अभ्यस्त हो गए हैं। उनकी ओर ध्यान कम दिया जा रहा है जिससे कोरोना संक्रमण जाते जाते कहीं वापस ना आ जाए। इसकी संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता। इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए मेरा मानना है कि या तो कोई भी ऐसी घोषणाएं ना करे और करे तो उसका पालन किया जाए और अधिकारी भी देखे कि इन्होंने मास्क ना लगाने वालों को अटेंड ना करने का ऐलान किया था क्या वो अपने कथन का पालन कर रहे हंैं। क्योंकि कोरोना की दूसरी लहर झेलने के लिए अब कोई भी तैयार नहीं है।

– रवि कुमार विश्नोई
सम्पादक – दैनिक केसर खुशबू टाईम्स
अध्यक्ष – ऑल इंडिया न्यूज पेपर्स एसोसिएशन
आईना, सोशल मीडिया एसोसिएशन (एसएमए)
MD – www.tazzakhabar.com

 

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five × two =