बेगमपुल पर सवारियों को बैठाने को लेकर हुआ हंगामा राॅड मारकर टैम्पों संचालक को किया लहुलुहान बाजारों में ई रिक्शाओं के घूमते, एसएसपी साहब कैसे मिल सकती है जाम से मुक्ति

0
661

मेरठ 12 अक्टूबर।शहर के गली मौहल्लों मुख्य बाजारों और चैराहों तक में लगने वाले जामों से नागरिक ही नही अब अधिकारी भी परेशान दिखायी देने लगे है। जिलाधिकारी समीर वर्मा और वरिष्ठ पुलिस अधिक्षक मंजिल सैनी द्वारा इस संदर्भ में कई बैठकें आयोजित की जा चुकी है तो एडीएम सिटी श्री मुकेश चंद्र एसपी सिटी मान सिंह चैहान और एसपी ट्रैफिस संजीव बाजपेयी आदि द्वारा भी इस संदर्भ में बैठकें कर जाम की समस्या का समाधान खोजने की कोशिश की जा रही है इसके लिए सीओं और इंस्पेक्टरों को व्यवस्था बनाने हेतु शहर के चैराहों का प्रभारी भी बनाया गया बताते है लेकिन यह समस्या है की कम होने की बजाय बढ़ती ही जा रही है। नागरिकों का मानना है की थानों की पुलिस थोड़े से पैसों के लिए अतिक्रमण करवाना नही छोड़ेगी तब तक जाम की समस्या का समाधान किसी भी रूप में होने वाला नही है। हां इसकों लेकर किसी समय कोई बहुत बड़ा बवाल प्रशासन और पुलिस के बड़े अधिकारियों के सामने जरूर खड़ा हो सकता है।

इसका उदाहरण गत रात को बेगमपुल से कचहरी जाने वाले आदर्शनगर नाले के किनारें वाले मोड़ पर हुई उस घटना को देखा जा सकता है जिसमें एक टैम्पू चालक द्वारा सवारियां भरने को लेकर दूसरे टैम्पों चालक को राॅड मारकर उसे खुनमखून कर दिया जिसे देख आसपास के क्षेत्रों में कुछ समय के लिए अफरातफरी मच गयी थाना लालकुर्ती की पुलिस ने इस मामलें में खबर लिखे जाने तक क्या किया पता नही चल पाया था बताते चले की बीतें दिनों फिल्मनगरी मुम्बई में फुल गिरजाने को पुल गिरजाना समझकर मची अफरातफरी के बाद कितने ही लोगो को अपने प्राणों से हाथ धोना पड़ा था ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है की ऐसे में अगर जरा सी देर में अफवाह फैलने लगती तो कितनी परेशानी शहर में हो सकती थी। यह तो एक घटना है ई रिक्शा कुछ क्षेत्रों में प्रतिबंधित होने के बाद भी छोटे छोटे बाजारों में इस तरीकें से अपना कब्जा जमाती है की आम आदमी का निकलना मुश्किल हो जाता है और कुछ कहने पर इनके संचालक मारपीट करने तक पर उतारू हो जाते है मगर पता नही क्या कारण है की जरा सा कही गाड़ी खड़ी हुई नही उसका औरचलते हुए वाहन को रोककर कोई ना कोई वजह निकालकर वाहन चालक का चालान कभीकभी जबरदस्ती करने वाले ट्रैफिक और पुलिस के सिपाही या दरोगा जी को अतिक्रमण और यह रिक्शाएं बाजारों में घुमने से बिगड़ रही यातायात व्यवस्था क्यो नही दिखायी देती।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here