आयुक्त ने की निर्मल हिंडन अभियान की समीक्षा अभियान की अब तक की प्रगति पर आयुक्त नाखुश, कहा जमीनी स्तर पर दिखाई दे कार्य,रोटी खाने से ज्यादा जरूरी हो हिंडन सफाई का कार्य, कुछ ऐसा हो मनोयोग-डा० प्रभात कुमार, औद्योगिक इकाईयों का निरीक्षण कर प्रदूषणकारी इकाईयों को बन्द करायेें-आयुक्त,हिंडन वन महोत्सव में लगेंगे 13.60 लाख पौधे, होगा 224 तालाबों का पुर्नजीवन-डा० प्रभात कुमार,हिंडन में कचरा डालने वालों पर लगायें 20 हजार रूपये का अर्थदण्ड-मण्डलायुक्त ,हिंडन किनारे के 70 ग्रामों में 1400 किसानों को दिया जायेगा जैविक खेती का प्रशिक्षण-आयुक्त

0
243

मेरठ : सहारनपुर से चल पड़ी, कर हिंडन श्रृगांर, तूने उसके रूप पर किये बहुत प्रहार।। जी हां हिंडन की वास्तविक स्थिति कुछ यही परीलक्षित करती है। आयुक्त द्वारा प्रारम्भ किये गये निर्मल हिंडन अभियान के अन्तर्गत छः माह हेतु तैयार की गयी कार्य योजना के सापेक्ष प्रगति की आयुक्त सभागार में आहूत समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए आयुक्त डा० प्रभात कुमार ने अधिकारियों से कहा कि रोटी खाने से ज्यादा जरूरी है हिंडन सफाई का कार्य, कुछ इसी मनोयोग के साथ कार्य करें। उन्होंने वर्षा ऋतु से पूर्व हिंडन वन महोत्सव मनाते हुए 13.60 लाख पौधों का रोपण करने, हिंडन किनारे के ग्रामों में 224 तालाबों का पुर्नजीवन करने के लिये निर्देशित किया।
आयुक्त डा० प्रभात कुमार ने कहा कि हिंडन अभियान के अन्तर्गत मुख्य विकास अधिकारी या अपर जिलाधिकारी के स्तर के अधिकारी को नोडल अधिकारी नामित करें। उन्होंने कहा कि कार्य ऐसा होना चाहिए जो जमीनी स्तर पर दिखायी दें। उन्होंने अब तक की प्रगति पर अपनी नाखुशी व्यक्त करते हुए बेहतर संवाद कायम करते हुए हिंडन को मिशन मोड में साफ करने के लिये कहा।
आयुक्त ने कहा जो हिंडन आपके पूर्वजों ने आपकों सौंपी थी क्या वहीं हिंडन आप आपने बच्चों को सौंप कर जा रहे है या प्रदूषित हिंडन को छोड़कर जा रहे है इस पर विचार करें तथा निर्मल हिंडन अभियान से जुड़कर हिंडन को निर्मल व अविरल बनाने में सहयोग प्रदान करें। आयुक्त ने कहा कि वर्षा ऋतु से पूर्व हिंडन किनारे के ग्रामों में हिंडन वन महोत्सव मनाते हुए 13.60 लाख पौधों का रोपण करें तथा उनकी सुरक्षा भी सुनिश्चित करें। उन्होंने तालाबों के चिन्हिकरण एवं पुर्नजीवन के लिये हिंडन किनारे के ग्रामों में एक ग्राम-एक तालाब योजना के अन्तर्गत 224 तालाबों को चिन्हित कर उनकों पुर्नजीवित करने के लिये निर्देशित किया।
आयुक्त ने कहा कि निमर्ल हिंडन अभियान के अन्तर्गत जो भी कार्य किये जा रहे हैं, उनकों ई-मेल के माध्यम से आवश्यक रूप से भेजें, ताकि उनकों वैबसाईट पर अपलोड किया जा सके। उन्होंने हिंडन व उसकी सहायक नदियों केे किनारे बडे क्षेत्रफल में जहां भूमि उपलब्ध हो, वहां बायोडाईवर्सिटी पार्क विकसित करने के लिये निर्देशित किया।
आयुक्त ने प्रदूषण नियन्त्रण अधिकारियों को निर्देशित किया कि वह अपने क्षेत्र के उपजिलाधिकारियों के साथ औद्योगिक इकाईयों का निरीक्षण करें तथा प्रदूषणकारी इकाईयों को बन्द करायेें। उन्होंने जिन-जिन नालों में साॅलिड वेस्ट गिर रहा है, उसको चिन्हित कर वहां जाल लगाने के लिये निर्देशित किया, साथ ही कहा कि जहां एस.टी.पी. की जरूरत है, इसके लिये पैसे की कोई कमी नहीं आने दी जायेगी।
आयुक्त ने हिंडन के किनारे के सभी ग्रामों को जल्द से जल्द ओ.डी.एफ. कराने तथा हिंडन या उसकी सहायक नदियों में कचरा डालने वालों पर मा0 राष्ट्रीय हरित अभिकरण (एन.जी.टी.) के आदेशों के अनुक्रम में 20 हजार रूपये का अर्थदण्ड लगाने के लिये कहा, साथ ही जो मीलें कचरा डाल रही हैं, उन पर हर घण्टे पर 20 हजार रूपये का अर्थदण्ड लगाकर फिर उसकी आर.सी. जारी कर वसूलने के निर्देशित किया तथा इस हेतु नोडल अधिकारी फ्लाईंग आॅफिसर बनायें ताकि वह निरीक्षण कर जुर्माना अधिरोपित कर सके।
आयुक्त ने सरधना नाले में डेरियों के गोबर गिराने की शिकायत पर वहां काॅमन गोबर गैस प्लांट बनाने पर विचार करने के लिये अधिकारियों को निर्देशित किया तथा इस हेतु नाॅन कन्जरवेशन एनर्जी डिपार्टमैन्ट से सहयोग लेने के लिये कहा।
अपर आयुक्त जयशंकर दूबे ने बताया कि हिंडन नदी गंगा यमुना नदी के मध्य अवस्थित है। उन्होंने कहा कि हिंडन नदी का उदगम स्थल जनपद सहारनपुर के मुजफफराबाद ब्लाॅक के शिवालिक पहाड़ियों के ढलान पर कालूवाला में स्थित है। उन्होंने बताया कि यह नदी जनपद सहारनपुर, शामली, मुजफ्फरनगर, मेरठ, बागपत एवं गाजियाबाद से होते हुए जनपद गौतमबुद्धनगर में ग्राम मोमनाथल के समीप यमुना नदी में मिलती है, इस नदी की कुल लम्बाई 355 किमी है।
अपर आयुक्त ने बताया कि विभिन्न जनपदों में हिण्डन व उसकी सहायक नदी के किनारों पर विभिन्न प्रकार के 316 उद्योग स्थापित हैं, हिण्डन व उसकी सहायक नदियों समीप 872 ग्राम है, हिण्डन नदी में नगरीय क्षेत्रों में विभिन्न स्थलों में लगभग 68 नाले गिरते हैं
संयुक्त निदेशक कृषि सुनील कुमार अग्निहोत्री ने बताया कि जैविक खेती को प्रोत्साहन देने के लिये हिंडन से जुडे सभी जनपदों में 10-10 ग्रामों का चिन्हीकरण किया गया है, जिसमें प्रत्येक में 20-20 किसानों को जैविक खेती का प्रशिक्षण दिया जायेगा।
संयुक्त विकास आयुक्त ए.बी. मिश्रा ने बताया कि हिंडन वन महोत्सव में हिंडन किनारे के ग्रामों में सहारनपुर में 4.50 लाख, मु.नगर में 2.50 लाख, शामली 1.10 लाख, बागपत में 2.00 लाख, मेरठ में 1.00 लाख, गाजियाबाद मेें 2.00 लाख, गौतमबुद्धनगर में 50 हजार पौधों का रोपण किया जायेगा तथा एक ग्राम एक तालाब योजना के अन्तर्गत हिंडन किनारे के ग्रामों में सहारनपुर मंे 33, मु.नगर में 30, शामली में 32, बागपत में 41, मेरठ में 43, गाजियाबाद में 26 व गौतमबुद्धनगर में 19 तालाबों को पुर्नजीवित किया जायेगा।
इस अवसर पर अपर आयुक्त सहारनपुर उदयीराम, अधीक्षण अभियन्ता सिंचाई गाजियाबाद एच.एन. सिंह, संयुक्त निदेशक कृषि सुनील कुमार अग्निहोत्री, जिला विकास अधिकारी, मेरठ दिग्विजय नाथ पाण्डेय, सेवानिवृत्त आई.एफ.एस. डी.वी. कपिल, सी.डी.ओ. मुजफ्फरनगर सहित प्रदूषण नियंत्रण विभाग व अन्य विभाग के अधिकारीगण, एन.जी.ओ. प्रतिनिधि आदि उपस्थित रहे।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 − one =