खंडर होता मेरठ का प्रेस क्लब, जिम्मेदार कौन?

0
702

सूचना विभाग की उदासीनता और पत्रकारों के अहम की लड़ाई में खंडर बनती इमारत
कमिश्नर साहब! जो भी हो प्रेस क्लब को बचाईये, प्रशासक नियुक्त कीजिए या सभी वर्गाें के पत्रकारों के प्रतिनिधि लेकर बनाए समिति

मेरठ 30 अक्टूबर। सही मायनो में पत्रकारिता कर रहे मीडिया से जुड़े पत्रकारों के प्रयासों से मंगल पांडे नगर में कई साल के संघर्ष के बाद करोड़ो रूपये की लागत से प्रेस क्लब का निर्माण हुआ था। जिसके रख रखाव की जिम्मेदारी सूचना विभाग को सौंपी गई थी। और इसके सेकेटरी भी सूचना अधिकारी या उपनिदेशक सूचना को बनाया गया था। और शायद अध्यक्ष डीएम को नामित किया गया था।
उसके बाद पत्रकारिता की गतिविधियों के लिये एक कमेटी पत्रकारों की बनी जो पत्रकारों की सुविधा व मीडिया से संबंध कार्य हेतु साधन जुटाने के लिये थी सूचना विभाग के भवन से कानूनी रूप से उसका कोई अधिकार शायद नहीं था। बाद में उसके चुनाव हुए। चुने गए पदाधिकारियों ने काफी अच्छा कार्य किया। बाद में चुनाव न कराने पर चुनी गई समिति कालाकित हो गई लेकिन कुछ बड़े पत्रकारों के अहम और सूचना विभाग द्वारा सक्रिय रूप से भागीदारी न निभाने पर उसके बाद आज तक पत्रकारों की समिति प्रेस क्लब के चुनाव नहीं हुए और सूचना विभाग अपनी जिम्मेदारी पूरी तौर पर भूल गया। परिणाम स्वरूप करोड़ों की लागत से बना प्रेस क्लब वर्तमान में खंडर होता जा रहा है। क्योंकि उसके चारो तरफ जंगल सा खड़ा हो गया है जमीन धंसने लगी है। आसपास के लोग यहां कपड़े सुखाने के साथ साथ कब्जा जमाने की कोशिश करने लगे हैं। लेकिन शायद सूचना विभाग को अपनी संपत्ति की चिंता नहीं है ओर जिस व्यक्ति के नाम से फर्जी तरीके से प्रेस क्लब समिति का रजिस्टेशन रिन्यू कराया उसके द्वारा इस ओर ध्यान नहीं दिया जा रहाह ै जिस कारण प्रेस क्लब के एकाउंट में लाखों रूपये होने के बाद भी प्रेस क्लब की खस्ता होती हालत और मूकदर्शक बना सूचना विभाग। कमिश्नर साहब यह सरकारी और सूचना विभाग की संपत्ति अधिक है। किसी बड़े बैनर के अखबार की प्रोपर्टी नही। अनुरोध है कि सूचना अधिकारी से इसका संविधान मंगवाकर उसके अनुसार किसी अधिकारी को फिलहाल प्रशासक नियुक्त कर प्रेस क्लब के रख रखाव कराने के साथ साथ इसका चुनाव कराने की व्यवस्था की जाए। और चाहे तो सोशल इलेक्ट्रोनिक प्रातः कालीन सांध्य कालीन तथा प्रेस फोटो ग्राफरों आदि में से एक एक दो दो सक्रिय पत्रकारव फोटोग्राफर लेकर इसके रख रखाव के लिये समिति बनाई जाए.
आॅल इंडिया न्यूज पेपर्स एसोसिएशन आईना के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री रवि कुमार बिश्नोई द्वारा मंडलायुक्त डाॅ. प्रभात कुमार जी से अनुरोध किया गया है की एक सरकारी कर्मचारी को वहां की रख रखाव के लिये तैनात करते हुए नगर निगम के जिम्मे इसकी सफाई और आवास विकास इसका रख रखाव व रंगाई पुताई कराकर प्रेस क्लब के भवन को बचाया जाए वरना हो सकता है कि कुछ दिनों में यह भवन अयाशों का अड्डा या सांप बिच्छुओं की शरणस्थली न बन जाए। मंडलायुक्त जी कुछ लोगों की उदासीनता और लापरवाही से खंडर हो रहे प्रेस क्लब की वर्तमान स्थिति यहां दिये जा रहे चित्रों को देखकर तय की जा सकती है। मंडलायुक्त जी प्रेस क्लब को इस स्थिति में पहुंचाने के लिए जिम्मेदार कौन है यह भी चिन्हित किया जाना चाहिए।
पहले चित्र में प्रेस क्लब के भवन के बंद चैनल तथा दूसरे चित्र में पड़ोसियों के सूखते कपड़े, तीसरे चित्र में धंसती जमीन और उसमे कूड़ा जलाए जाने तथा चैथे चित्र में भवन के चारो ओर फैली जंगली पेड़ों को देखा जा सकता है। दैनिक केसर खुशबू से सहभार

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here