आयुक्त की अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ मित्र दिवस

0
920

मेरठ. आयुक्त कार्यालय में आयोजित आयुक्त मित्र दिवस में प्रस्तुत प्रार्थना पत्रों पर कार्यवाही करते हुए आयुक्त डा0 प्रभात कुमार ने सुरेन्द्र कुमार गौड़ आदि निवासीगण आदर्शनगर मेरठ के प्रार्थना पत्र के सम्बंध में शिकायतकर्ता की उपस्थिति में पैमाईश करने व  उपाध्यक्ष, एमडीए तथा एडीएम ई मेरठ की संयुक्त समिति द्वारा अभिलेखों का परीक्षण करने  तथा नरेन्द्र आदि निवासीगण किनानगर, मेरठ के प्रकरण के सम्बंध में उपजिलाधिकारी के न्यायालय में प्रकरण से सम्बन्धित दोनो वादों का नियमानुसार गुण-दोष के आधार पर निस्तारण सुनिश्चित किये जाने के लिये निर्देषित किया।मेरठ. आयुक्त कार्यालय में आयोजित आयुक्त मित्र दिवस में प्रस्तुत प्रार्थना पत्रों पर कार्यवाही करते हुए आयुक्त डा0 प्रभात कुमार ने सुरेन्द्र कुमार गौड़ आदि निवासीगण आदर्शनगर मेरठ के प्रार्थना पत्र के सम्बंध में शिकायतकर्ता की उपस्थिति में पैमाईश करने व  उपाध्यक्ष, एमडीए तथा एडीएम ई मेरठ की संयुक्त समिति द्वारा अभिलेखों का परीक्षण करने  तथा नरेन्द्र आदि निवासीगण किनानगर, मेरठ के प्रकरण के सम्बंध में उपजिलाधिकारी के न्यायालय में प्रकरण से सम्बन्धित दोनो वादों का नियमानुसार गुण-दोष के आधार पर निस्तारण सुनिश्चित किये जाने के लिये निर्देषित किया। आयुक्त के समक्ष प्राप्त प्रार्थना पत्रों में सुरेन्द्र कुमार गौड़ व पुरूषोत्तम दयाल पुत्रगण स्व0 श्री रोशन लाल, निवासीगण आदर्शनगर मेरठ के प्रार्थना पत्र दिनांक 26-09-2017 के प्रकरण ग्राम मुकर्ररपुर, पल्हैडा, तहसील मेरठ स्थित शिकायतकर्ता की भूमि के सम्बन्ध में शिकायतकर्ता एवं प्राधिकरण के मध्य विवाद है, प्राधिकरण की पल्ल्वपुरम योजनान्तर्गत पड़ने वाले राजस्व ग्राम मुकर्ररपुर पल्हैडा की भूमि खसरा सं0-313 का राजस्व अभिलेखानुसार कुल क्षे़़त्रफल 6740 वर्गमीटर था, जिसमें से 2800 वर्गमीटर भूमि प्राधिकरण की पल्लवपुरम योजित हेतु अर्जित है। शेष 4940 वर्गमीटर भूमि श्री पुरूषोत्तम व श्री सुरेन्द्र गौड़ आदि के नाम है, जिसमें से 430 वर्गमीटर भूमि राष्ट्रीय राजमार्ग हेतु अर्जित है तथा कृषक पक्षकार/हितबद्ध व्यक्तियों की उक्त भूमि का भाग महायोजना के नक्शे में रोड़ बाईडनिंग हेतु आरक्षित है, जिस कारण शिकायतकर्ता की जमीन कम हुई है। इस आधार पर इनके स्वामित्व की भूमि व रोड बाईडनिंग  से प्रभावित भूमि का सीमांकन कराते हुये शेष भूमि पर प्राधिकरण को कब्जा लेना है, परन्तु कतिपय कारणवश पूर्व मे पैमाईश नहीं हो सकी।। आयुक्त महोदय के आदेशों के अनुपालन में अपर जिलाधिकारी (प्रशासन) मेरठ की उपस्थिति में पैमाईश कराकर प्राधिकरण को जमीन पर कब्जा लिया जाना है। आयुक्त डा0 प्रभात कुमार ने शिकायतकर्ता की उपस्थिति में पैमाईश कराकर आख्या दिनांक 15-11-2017 तक उपलब्ध कराने व उपाध्यक्ष, मेरठ विकास प्राधिकरण तथा अपर जिलाधिकारी (प्रशासन) मेरठ की संयुक्त समिति द्वारा प्रतिवेदनकर्ता के समस्त अभिलेखों का परीक्षण करने के लिए निर्देषित किया।  वहीं एक दूसरे प्रकरण में नरेन्द्र पुत्र स्व0 श्री हरपाल तथा श्रीमती ओमवती पत्नी स्व0 श्री हरपाल, निवासीगण किनानगर, मेरठ द्वारा प्रस्तुत प्रार्थना पत्र अवगत कराया गया कि खतौनी वर्ष 1397 ता 1402 फसली के खाता सं0-540, खातेदार हरपाल पुत्र फत्ते ग्रामवासी पर प0क0 11क के क्रमांक-3 दिनांक 03-01-1994 का आदेश अंकित है कि ‘‘हरपाल मृृतक का नाम खारिज करके चन्द्रपाल सिंह पुत्र हरपाल सिंह ग्रामवासी बतौर वारिस दर्ज होवंे। उक्त नाम अंकित होने पर चन्द्रपाल पुत्र हरपाल द्वारा प्रश्नगत भूमि खसरा सं0-880 रकबा 0.1900 है0 को धर्मपाल पुत्र चरता निवासी ग्राम सियाल के पक्ष में विक्रय कर दी तथा धर्मपाल द्वारा उक्त भूमि साजिद खान व माजिद पुत्रगण रियाजुल हसन निवासी ग्राम गोकुलपुर को दिनांक 08-02-2013 को विक्रय कर दी, जिसका दाखिल खारिज का आदेश वर्तमान खतौनी 1421 ता 1426 फसली के खाता सं0-203 पर दर्ज हैं। प्रकरण के सम्बन्ध में न्यायालय उपजिलाधिकारी मेरठ में धारा 229बी व धारा-33/39 के अन्तर्गत वाद विचाराधीन है। आयुक्त डा0 प्रभात कुमार ने उपजिलाधिकारी के न्यायालय में प्रकरण से सम्बन्धित दोनो वादों का नियमानुसार गुण-दोष के आधार पर दो माह के अन्दर निस्तारण सुनिश्चित किये जाने के लिए निर्देषित किया।   इस अवसर पर उपजिलाधिकारी सदर, मेरठ तहसीलदार (सदर) मेरठ संतोष कुमार, तहसीलदार, मेरठ विकास विकास प्राधिकरण, मेरठ करनवीर सिंह, राजस्व निरीक्षक राजपाल यादव शिकायतकर्ता मनोज गौडश्री सुरेन्द्र कुमार गौड़,शिकायतकर्ता श्री नरेन्द्र पुत्र स्व0 श्री हरपाल तथा श्रीमती ओमवती रिषीपाल सिंह बलबीर सिंह आदि उपस्थित रहे।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here