विभाग की लापरवाही के चलते उपभोक्ताओं का उठाना पड़ रहा है

0
133

बाटमाफ विभाग में दस साल से टिके है केेके शर्मा

मेरठ 18 मार्च (प्रतिनिधि)। अपने शहर में बाट माफ विभाग का एक बड़ा अमला हर नागरिक को दिये गए पैसों के अनुसार पूणर्तः तौल में गा्रह को सामने उपलब्ध कराने के लिए तैनात है। बताया जाता है। कि इस विभाग के मुखिया के रूप में बीत लगभग दस साल से केके शर्मा नामक अफसर यहां तेनात है उपभोक्ताओं को तो अनेकों जगह दिये गये पैसे के मुकाबले सामान नहीं मिल पा रहा है लेकिन विभाग के अधिकारियों की जब का वजन और बैंक बैलेंस निरंतर बढ़ता ही जा राह है।
एक जानकारी के अनुसार शहर के विभिन्न इलाकों में ठेेलों पर सामान बेचने वाले लोगों का बाट-माफ पूरी तरिके से चेक नहीं किये जाते इसी प्रकार पेट्रोल पम्पो पर भी जांच का काम इनके द्वारा नियमित रूप से नहीं किया जाता है। एक आश्चर्यजनक बात पता चली कि मैनुफैकचर लाइसेंस के लिए सरकार की फीस तो बहुत कम बताई जाती है लेकिन उपर से लाखों रूपये भेंट चढ़ाने से पहले लाइंसेस की संतुति इनके यहां से नहीं होती कितने ही उपभोक्ता समय-असयम बाट-माफ विभाग की लापरवाही और हो रही कमाई से यहां एक अफसरों के चलते उपोक्ताओं अपनी मेहनती की का हिस्सा गवाने को मजबूर है। अखिर कौन इस ओर ध्यान देकर दिलाएगा उपभोक्ताओं को इंसाफ।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five − 2 =