भाजपा नेता अंकुर गोयल का निर्णय है सराहनीय, नगर निगम के अधिकारियों के खिलाफ हो कार्रवाई

0
1010

कुछ वर्ष पूर्व उत्तर प्रदेश के जिला कानपुर में वाहन गड्ढे में गिर जाने से घायल हुए व्यक्ति के द्वारा नगर निगम के अधिकारियों पर मुकदमा दर्ज कराए जाने के बाद लड़ाई भले ही लंबी चली हो लेकिन उसे भारी मुआवजा मिला था। स्थानीय निकाय व नगर निगमों को सड़क सुधार और सफाई के लिये भारी बजट मिलने के बाद भी नगर निगम के अधिकारियों और चुने गए जनप्रतिनिधियों की लापरवाही के चलते नागरिकों के अनुसार जिस काम के लिये जो धन आता है। उस पर न खर्च कर दूसरी मदों मंे व्यय कर दिया जाता है। और क्योंकि कोई कुछ कहने वाला होता नहीं। मेयर ज्यादातर मामलों में सब जगह चुप्पी साद जाते हैं। शायद यही कारण है कि आये दिन समाचार पत्रों में इलेक्ट्रोनिक व सोशल मीडिया के चैनलों पर नगर निगम व स्थानीय निकायों में घोटालों की खबरे छपने के बाद भी दोषी बच जाते हैं और क्योंकि निगम संबंधी उच्च अधिकारियों द्वारा भी किसी को सजा दिलाने का कोई प्रयास नहीं किया जाता। इसलिये जेल भेजे जाने वाले कुछ अधिकारी और कर्मचारी सरकारी गाड़ियों में घूमते और सड़कों के निर्माण व सफाई आदि के बिंदुओं पर लीपापोती कर खानापूर्ति करने में लगे रहते हैं।
भाजपा नेता अंकुर गोयल एक गड्ढे में गिर जाने से घायल हो गए और उन्होंने नगर निगम के जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ छपी खबर के अनुसार थाना कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराने हेतु 6 अधिकारियों के नाम सहित प्रार्थना पत्र दिया। खबर लिखे जाने तक थानेदार या कोई ओर यह बताने को तैयार नहीं कि लिखित प्रार्थना पत्र दिये जाने के बाद भी रिपोर्ट दर्ज की गई या नहीं।
मेरा मानना है कि भाजपा युवा कार्यकर्ता अंकुर बंसल ने जो एफआईआर हेतु तहरीर दी उस पर उन्हे अड़े रहना चाहिये और अगर पुलिस रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई नहीं करती है तो माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी जनपद के प्रभारी मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह और नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना मंडलायुक्त डा. प्रभात कुमार आदि को ट्वीट कर पूरे विवरण से अवगत कराकर कार्रवाई की मांग करनी चाहिये। क्योंकि नगर निगमों की जो कार्यप्रणाली है उसको अब इस भावना के तहत नजर अंदाज नहीं करना चाहिये कि भगत सिंह तो पैदा हो लेकिन मेरे घर नही। पड़ोसी के यहां हो अब ऐसा चलने वाला नहीं है।
अंकुर गोयल ने एक कदम बड़ाया है जो सराहनीय है और जनहित का भी। इसके माध्यम से आम जनजात को काफी राहत मिल सकती है। ओर सरकार का नगर निगमों को दिया जाने वाला पैसा भी सही जगह पर खर्च हो सकता है उसके लिये किसी दबाव आदि में न आकर अंकुर गोयल को पीछे नहीं हटना चाहिये। और अगर थाने में एफआईआर दर्ज नहीं होती तो माननीय न्यायालय का द्वार खटखटाकर जिन अधिकारियों को नामित किया गया है उनके खिलाफ वहां से कार्रवाई कराई जाए तभी भविष्य में सरकार किसी की भी हो अधिकारी जनहित के मुददो पर सोचने के लिये मजबूर होंगे। और इस मामले में भाजपा के तमाम नेताओं सहित विरोधी दलों को और शहरहित को अंकुर गोयल का साथ कंधे से कंधा मिलाकर देना चाहिये। वरना पिछले कुछ वर्षोें में नगर निगम के अधिकारियों की लापरवाही से नालों और सीवर में गिर गई अथवा बारिश के दौरान पता न चलने पर कितने ही लोग गड्डो में गिर जाने से अपनी जान से हाथ धोने के साथ साथ घायल हुए और आगे भी होते रहेंगे। अगर कार्रवाई नहीं हुई तों। थाना कोतवाली में अंकुर गोयल द्वारा एफआईआर हेतु दिया गया प्रार्थना पत्र इस प्रकार है। भाजयुमो कार्यकर्ता अंकुर गोयल के घायल होने पर उनके भाई अनुज गोयल ने नगर निगम अधिकारियों को दोषी मानते हुए कोतवाली थाने में तहरीर दी है। कोतवाली थानाध्यक्ष से नगर आयुक्त, अपर नगर आयुक्त, मुख्य अभियंता, जीएम (जल), एई जल-कल, जेई जल-कल के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर कानूनी कार्रवाई करने की मांग की गई है। तहरीर में अनुज गोयल ने कहा है कि उनका भाई अंकुर गोयल 17 अक्टूबर को बजरंग बली शोभायात्रा में साथ-साथ चल रहे थे। रात्रि में 8.20 बजे कोतवाली से गुदड़ी की तरफ मुड़ने पर अंकुर गोयल सड़क पर बने गड्ढे में गिर पड़े। शोभायात्रा के अन्य सहयोगियों ने उन्हें गड्ढे से किसी तरह बाहर निकाला। गड्ढे में निकले दो नुकीले सरिये से जान भी जा सकती थी। गड्ढे से निकाल कर अंकुर गोयल को कोतवाली परिसर में हड्डी रोग विशेषज्ञ डा. गौरव जैन के क्लीनिक पर ले जाया गया। एक्सरे में पाया गया कि पैर की हड्डी में दो फ्रैक्चर, पसलियों में खिचाव, सूजन हो गयी उसके बाद 45 दिन का प्लास्टर चढ़ाया गया। यह सब नगर निगम के अधिकारियों के गैर जिम्मेदारी, कर्तव्य में लापरवाही कार्या में शिथिलता के कारण हुआ। कोतवाली थानाध्यक्ष से नगर आयुक्त, मुख्य अभियंता सहित छह अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर कार्रवाई का आग्रह किया गया।

– रवि कुमार विश्नोई
राष्ट्रीय अध्यक्ष – आॅल इंडिया न्यूज पेपर्स एसोसिएशन आईना
सम्पादक – दैनिक केसर खुशबू टाईम्स
loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here