Friday, July 19

नवंबर से जनवरी तक खराब रही एनसीआर की आबोहवा

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ 27 फरवरी (प्र)। नवंबर, दिसंबर और जनवरी में लगातार खराब रही एनसीआर की आबोहवा फरवरी में सुधर गई और बेहतर हो गई। तीन महीने बाद एनसीआर को राहत के संकेत मिले हैं। पांच फरवरी को सबसे कम प्रदूषण महानगर का दर्ज किया गया था। उसके बाद 26 फरवरी को प्रदूषण कम हुआ है। इस समय एनसीआर की हवाएं स्वास्थ्य के प्रति बेहद अच्छी है और स्वास्थ्य पर कोई भी क्षति नही पहुंचा रही है। अगर पिछले तीन महीनों का एनसीआर का प्रदूषण रिकार्ड देखा जाए तो उससे साफ जाहिर है कि बढ़ते प्रदूषण के कारण लोगों को सांस लेना भी दूभर हो गया था, लेकिन तेज हवाओं का रुख चलने के कारण फिर से प्रदूषण में कमी आई है। जिसके कारण अब सांस लेने में आसानी होगी। एनसीआर और महानगर में फिलहाल प्रदूषण को लेकर राहत भरी खबर है। प्रदूषण के लिहाज से अब थोड़ी राहत दिखाई दे रही है। एनसीआर के तमाम जिलों में भी प्रदूषण की स्थिति बेहद अच्छी है। जिसके चलते लोगों ने प्रदूषण से राहत महसूस की है। अगर एनसीआर के आंकड़ों पर नजर डाली जाए तो पांच फरवरी को 45 और 26 फरवरी को 93 प्रदूषण का स्तर दर्ज किया गया। इस लिहाज से अब स्थिति साफ सुधरी और अच्छी है। इसलिए अभी जागरूक जरूर रहना पड़ेगा। क्योंकि फिर से प्रदूषण का स्तर बढ़ेगा, लेकिन उससे पहले सावधानी बरतने की आवश्यकता होगी।

इन शहरों में प्रदूषण का स्तर
बागपत 94
गाजियाबाद 124
मेरठ 93
मुजफ्फरनगर 162

मेरठ के इन स्थानों पर प्रदूषण का स्तर
जयभीमनगर 72
गंगानगर 105
पल्लवपुरम 103

हवा से ठंड का एहसास जारी
मौसम में भी हवा के कारण हल्की सर्दी का एहसास बढ़ा है। पहाड़ों पर हो रही लगातार बर्फबारी के कारण मौसम में ठंड का एहसास बढ़ा है। सोमवार को दिन में खिली धूप जरूर निकली, लेकिन शाम के समय तेज हवाओं के कारण सर्दी का एहसास बना रहा है राजकीय मौसम वैधशाला पर सोमवार को दिन का अधिकतम तापमान 24.5 डिग्री एवं न्यूनतम तापमान 9.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अधिकतम आर्द्रता 79 एवं न्यूनतम आर्द्रता 26 प्रतिशत दर्ज की गई। हवा का रुख सुबह शांत तो शाम को चार से छह किमी प्रति घंटा की रफ्तार से आंका गया है। मौसम वैज्ञानिक डा. यूपी शाही के अनुसार अभी मौसम में बदलाव का दौर जारी रहेगा।

Share.

About Author

Leave A Reply