मेरठ के न्यूटीमा अस्पताल की जांच हेतु गठित टीम क्यों नहीं कर रही कार्रवाई

0
2466

शिकायतकर्ता ने कहा मुख्यमंत्री चीफ सेके्रटरी कमिश्नर व डीएम से मिलेंगे

मेरठ 9 सितंबर। कमिश्नर मेरठ डाॅ. प्रभात कुमार द्वारा अवैध निर्माणों और कंपाउंड शुल्क जमा न कराने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई किये जाने के दिये गए निर्देशों के बाद भी अवैध निर्माणकर्ताओं और शासन की नीतियों के विरूद्ध कार्य को बढ़ावा देने वालों के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की जा रही है यह विषय आजकल लोग बात कर रहे है। और खासकर गढ़ रोड स्थित न्यूटीमा अस्पताल काफी चर्चाओं में है।
सूत्रों द्वारा बताया जाता है कि पांच अगस्त को जिलाधिकारी मेरठ को कुछ लोगों ने एक शिकायती पत्र देकर न्यूट्रीमा में अवैध निर्माण होने व कुछ अन्य मामलों को लेकर लिखित शिकायत की थी जिस पर बताया जा रहा है कि डीएम ने सीएमओ व फायर आॅफिसर तथा एमडीए के एक अधिकारी को लेकर तीन सदस्य की टीम बनाकर निर्देश दिये थे कि एक माह के अंदर अंदर शिकायत से संबंध बिंदुओं पर जांच रिपोर्ट दी जाए।
शिकायतकर्ताओं का कहना है कि अभी तक कमेटी ने कोई कार्रवई न्यूटीमा अस्पताल के खिलाफ नहीं की है। तथा इससे पूर्व मेरठ विकास प्राधिकरण द्वारा भी एक जांच जरूर शुरू करायी गई थी उसमे क्या हुआ यह भी पता नहीं चल सका। ऐसा क्यों हो रहा है यह तो जांचकर्ता या संबंधित अधिकारी जान सकते हैं मगर एक बात साफ मौखिक सूत्रों से सुनाई दे रही है कि कुछ सरकारी नौकर गलत तरीके से नयूटीमा अस्पताल और उसके संचालकों के खिलाफ कार्रवाई को टालने के लिये भरपूर प्रयास अन देखे रूप में कर रहे बताए जाते हैं।
गत शाम को कमिश्नर ने एक शिकायतकर्ता ने मौखिक रूप से बताया कि वो देख रहे हैं कि अभी क्या कार्रवाई होती है और संबंधितों ने कोई कार्रवाई नहीं की तो फिर प्रदेश के मुख्यमंत्री चीफ सेके्रटरी कमिश्नर व जिलाधिकारी से शिकायत की जाएगी लेकिन न्यूटीमा अस्पताल के संचालकों को गलत काम करने और अवैध निर्माणों को बढ़ावा देने की छूट नहीं मिलने देंगें। 

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here