फर्जीवाड़ा कर 215 करोड़ की जीएसटी चोरी करने वाला गिरफ्तार, फर्जी पते पर खोल रखी थीं 37 फर्में

0
339

लखनऊ. फर्जी नाम व पते पर फर्म खोलकर क्रय-विक्रय कर करोड़ों रुपये की टैक्स चोरी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश साइबर क्राइम पुलिस ने किया है। इस गिरोह के मुख्य आरोपी संजय यादव को गिरफ्तार किया गया है। साइबर क्राइम पुलिस के मुताबिक संजय ने 37 फर्म खोलकर 215 करोड़ रुपये की इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) का लाभ लिया। इस फर्जीवाड़े में कई और लोग शामिल हैं। जिनकी तलाश की जा रही है। आरोपी के खिलाफ पीजीआई और अमीनाबाद में दो मुकदमें दर्ज है। जिसमे 9 फर्मों के नाम पर 10.50 करोड़ रुपये की हेराफेरी की गई है।
एसपी साइबर क्राइम त्रिवेणी सिंह के मुताबिक फर्जी व्यावसायिक फर्म बनाकर जीएसटी चोरी करने वाले गिरोह के सक्रिय होने की सूचना मिली थी। इस मामले में अमीनाबाद में 2019 में मुकदमा दर्ज कराया गया था। वहीं पीजीआई थाने में भी 2020 में एक केस दर्ज हुआ। इन दोनों मामलों की विवेचना साइबर क्राइम थाने के प्रभारी निरीक्षक मो. मुस्लिम खान ने शुरू की।

इस दौरान सामने आया कि गिरोह लखनऊ, नोएडा, दिल्ली में सक्रिय है। इस गिरोह ने करोड़ों रुपये की जीएसटी चोरी की है। इसके लिए कई फर्जी नाम व पते पर फर्में बनाई गई हैं। साइबर क्राइम टीम ने जानकीपुरम के एकेटीयू के पीछे मिर्जापुर गांव से संजय सिंह यादव नाम के युवक को दबोचा है। संजय मूलरुप से उन्नाव के फतेपुर चौरासी स्सित पवारनखेड़ा का रहने वाला है। उसने इसी फर्जीवाड़े में कई संपत्तियां खड़ी कर ली। इसमें लोकनायकपुरम नई दिल्ली में एक फ्लैट, एकेटीयू के पीछे घर व प्लाट तैयार किया गया है। उसके पास से टीम को जीएसटी चोरी में प्रयुक्त होने वाला मोबाइल नंबर बरामद हुआ है। पुलिस टीम उससे पूछताछ कर रही है।

ऑन लाइन पंजीयन कर बनाई फर्जी फर्में, किया करोड़ों का लेनदेन: साइबर क्राइम इंस्पेक्टर के मुताबिक जीएसटी चोरी करने के लिए सरकार ने परिवहन के लिए ई-वे बिल अनिवार्य कर दिया। जिससे हर खरीद की सूचना विभाग को मिलने लगी लेकिन इन शातिर अपराधियों द्वारा माल को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाने के लिए ऐसी योजना बनाई गई कि किसी तरह ई-वे बिल भी प्राप्त कर लिया जाए। अपना नाम भी सामने न आये।

संजय ने खोली थी 37 फर्में, लगाया 215 करोड़ का चूना: एसपी साइबर क्राइम त्रिवेणी सिंह के मुताबिक जब इन फर्जी फर्म का भौतिक सत्यापन किया गया तो फर्जीवाड़ा सामने आया। संजय सिंह यादव ने अपने नाम से 37 फर्म तैयार की। इनके फर्जी तरीके से बैंक में खाते खुलवाये। वहीं इन सभी 37 बैंक खातों में तीन मोबाइल नंबर का प्रयोग किया। एसपी क्राइम त्रिवेणी सिंह के मुताबिक इन खातो में 215 करोड़ रुपये का लेनदेन किया गया।

1700 करोड़ की जीएसटी चोरी में भी आया था नाम: एसपी साइबर क्राइम त्रिवेणी सिंह के मुताबिक पूछताछ में सामने आया कि आरोपी संजय सिंह यादव का नाम कुछ दिन पहले भी आया था। मेरठ में जीएसटी विभाग ने 1700 करोड़ रुपये की चोरी पकड़ी थी। इसमें 650 फर्जी फर्मों का नाम सामने आया। इस प्रकरण में संजय सिंह यादव और उसके सहयोगी चार्टेड अकाउंटेंट प्रदीप कुमार का नाम भी सामने आया। प्रदीप दिल्ली का रहने वाला है। उसके पास कई बड़े कारोबारियों के व्यापार की कुंडली है।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here