विवि में सड़क सुरक्षा जागरूकता कार्यशाला एवं संगोष्ठी का हुआ सफल आयोजन

0
572

मेरठ. जन भली की गाड़ी भली, सड़क कहती की सुरक्षा भली।। मत कर इतनी मस्ती जिंदगी नहीं है सस्ती।। सड़क सुरक्षा जीवन रक्षा।। कुछ इन्ही बातों के प्रति आमजन को जागरूक करने व आत्मसात कराने के दृष्टिगत राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित किये जा रहे राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह के अन्तर्गत सड़क सुरक्षा जागरूकता कार्यशाला एवं संगोष्ठी का विधिवत उद्घाटन चै0 चरण सिह विवि के बृहस्पति भवन में आयुक्त व मुख्य अतिथि डा0 प्रभात कुमार ने दीप प्रज्जवलन कर किया। इस अवसर पर उन्होंने सड़क सुरक्षा के 20 टिप्स दिये व बच्चों को ईमानदारी की प्रतिज्ञा दिलायी। इस अवसर पर आयुक्त, पुलिस महानिरीक्षक व ब्रिगेडियर एनसीसी को स्मृति चिन्ह भेंट किया गया। सड़क सुरक्षा सप्ताह आगामी 29 अप्रैल तक मनाया जाएगा।
परिवहन विभाग द्वारा आयोजित सड़क सुरक्षा सप्ताह के अवसर पर बोलते हुए मुख्य अतिथि आयुक्त डा0 प्रभात कुमार ने सभागार में उपस्थित छात्र-छात्राओं व गणमान्य व्यक्तियों को इंगित करते हुए कहा कि आज उन्हें वास्तविक लोग मिले है जिनकी उन्हें वास्तव में जरूरत है। उन्होंने कहा कि यह विडम्बना है कि आजादी के 70 वर्ष बाद भी पहले हम चीजों को बिगाड़ते है फिर उनका हल ढूंढते है।
आयुक्त ने बच्चों को ईमानदारी की प्रतिज्ञा दिलायी तथा कहा कि वह अपनी रचनात्मकता व अपने अन्दर के बच्चें को कभी न जाने दें। उन्होंने बच्चों को विचारों और मूल्यों को सर्वोच्च स्थान पर रखने की प्रेरणा दी। उन्होंने कहा कि ईमानदारी ओर बेईमानी भी उसी प्रकार पूरक है जैसे हिंसा व अहिंसा।
उन्होंने बच्चों से कहा कि वह महिलाओं का सम्मान करें व सड़क सुरक्षा पर ध्यान व उसका प्रचार करे। उन्होनंे कहा कि जंगल का राजा शेर इसलिए होता है क्योकि वह शक्तिशाली तथा निर्णय लेने की क्षमता वाला होता है। उन्होंने बताया कि भारत में प्रतिदिन 410 मृत्यु सड़क सुरक्षा में लापरवाही के कारण होती है।
आयुक्त ने बच्चों को सड़क सुरक्षा के 20 टिप्स दिये जिसमें, वाहन चलाते समय वाहन का प्रयोग न करना, हेलमेट अवश्य लगाना, सुरक्षित व धीमी ड्राइविंग, सीटबैंल्ट अवश्य लगाने, नशे में गाड़ी न चलाने, सड़क सुरक्षा के नियमों का पालन करने आदि टिप्स दिये।
विशिष्ठ अतिथि पुलिस महानिरीक्षक रामकुमार ने कहा कि छोटे-छोटे कारणों से ही बड़ी घटनाएं हो जाती है इसलिए हमे पूर्ण सावधानी के साथ चलना चाहिए। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही भविष्य में स्पेशल पुलिस आॅफिसर (एसपीओ) की तर्ज पर स्टूडेट पुलिस कैडेटस (एसपीसी) का गठन किया जाएगा जोकि कालेजों में पाठयक्रम का एक भाग होगा तथा चयनित विद्याार्थियों को प्रशिक्षण व इन्सेन्टिव भी दिया जाएगा, इसके लिए यूपी में जल्द पाइलेट प्रोजेक्ट शुरू किया जाएगा।
महानिरीक्षक ने बताया कि जनपद में यातायात प्रबंधन केन्द्र खोला गया गया जिसमें ट्रैफिक चालान की व्यवस्था है तथा इससे टैªैफिक सुधार में परिवर्तन आएगा। उन्होंने कहा कि सभी वाहन चालकों को घर से निकलते से सड़क सुरक्षा के नियमों को ध्यान में रखकर ही निकलना चाहिए तथा अपने परिवार की सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए।
एनसीसी के बिग्रेडियर यशपाल सिंह ने कहा कि सड़क सुरक्षा के हर पहलू को देखना चाहिए तथा कहा कि एनसीसी की टास्क फोर्स सड़क सुरक्षा में प्रशासन के सहयोग के लिए सदैव तत्पर रहेगी।
उपायुक्त परिवहन संजय माथुर ने कहा कि सड़क सुरक्षा जीवन रक्षा विषय पर यह कार्यक्रम आयोजित किया गया है। उन्होंने कहा कि सड़क सुरक्षा में लापरवाही के कारण जितनी मृत्यु होती है उतनी मृृत्यु कैंसर व हृदय घात से भी नहीं होती है। उन्होंने कहा किआप सुरक्षित हैं तो आपका परिवार सुरक्षित है इसलिए सभी बच्चें घर जाकर अपने माता पिता व पड़ोसियों को सड़क सुरक्षा के प्रति प्रेरित करें व नियमों की जानकारी दें।
आरटीओ डा0 विजय कुमार ने बताया कि जनपद के 30 स्कूलों में रोड सेफटी क्लब स्थापित किये गये है व सड़क सुरक्षा सप्ताह में विभिन्न स्कूलों में सड़क सुरक्षा विषय पर वाद विवाद व स्लोगन प्रतियोगिता आयोजित की जाएगी। उन्होंने बताया कि जनपद में 11 ब्लैक स्पाॅटस हैं व सड़क सुरक्षा में ध्यान न देने से हर चार मिनट में एक मृत्यु हो जाती है।
इस अवसर पर सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूक करने के उद््देश्य से नाटक का मंचन किया गया तथा स्कूलों के प्रधानाचार्य, नोडल अधिकारी व अम्बेस्डर को आयुक्त द्वारा बैज लगाकर सम्मानित किया गया।
इस अवसर पर सम्भागीय परिवहन अधिकारी डा0 विजय कुमार, आरटीओ प्रवर्तन ओपी ंिसह, एआरटीओ दीपक शाह, पीटीओ सुधीर कुमार, अमित नागर, सहित विभिन्न विद्यालयों से आये छात्र-छात्रायें व प्रधानाचार्यगण उपस्थित रहे।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here