वरिष्ठ कवि सरदार रतन सिंह रतन के निधन से साहित्य जगत को हुई अपूर्ण क्षति

0
218
File Photo.

मेरठ 11 जुलाई। हास्य एवं वीर रस के कवि सरदार रतन सिंह रतन के निधन पर शहर में शोक की लहर छा गई। उनके न्यू गोविंदपुरी स्थित निवास पर पहंुचकर अनेक कवियों व वरिष्ठ नागरिकों ने उन्हे अंतिम विदाई दी। राष्ट्र कवि डाॅ. हरिओम पंवार ने उनकी यादों साझा करते हुए कहा की मैने अपना अग्रज और सच्चा मित्र खो दिया है। कवि सरदार रतन सिंह रतन न्यू गोविंदपुरी में अपने परिवार के साथ रहते थे। वे 81 साल के थे। उनके करीबी मित्र कवि सुमनेश सुमन के अनुसार उनका जन्म 31 दिसम्बर 1938 ग्राम रन्हेरा जिला गौतमबुद्ध नगर उप्र में हुआ था। उनके पिता स्वतंत्रता सेनानी स्व0 सरदार बंटू सिंह थे। सरदार रतन सिंह हास्य व्यंग और वीर रस के कवि थे। उनकी लालकिले की प्राचीरों से ‘घटनावली’ ‘डेली पेसेजर’ जहां हांस्य व्यंग्य की ओज से सजे कविता संग्रह है तो वही सतगुरू महिमा, गुरू गोविंद सिंह, शहीदे आजम उधम सिंह, सरदार भगत सिंह धार्मिक एवं देशभक्ति के संग्रह है।
उन्हे तत्कालीन केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री अर्जुन सिंह द्वारा सम्मानित किए जाने के साथ ही संस्कार भारती द्वारा हास्य शिरोमणि सम्मान से अलंकृत किया गया था। अम्बेडकर फेलोशिप भारतीय दलित साहित्य अकादमी दिल्ली द्वारा सम्मानित लालकिला कवि सम्मेलन में अनेक बार उन्होने काव्य पाठ किया। वे अपने पीछे परिवार में तीन पुत्र और दो पुत्रियां छोड़ गए है उनके निधन पर अजीत, राष्ट्र कवि डाॅ. हरिओम पंवार, सुमनेश सुमन राजकुमार शर्मा राज, सुदेश जख्मी, मंगल सिंह मंगल, विजय प्रेमी आदि कवियो ने शोक जताया।
गत दिवस दोपहर को कंकरखेड़ा के राम बाग में स्थित शमशान घाट पर उनका अंतिम संस्कार सरदार रतन सिंह के बेटे सतवंत सिंह द्वारा मुखाग्नि देकर किया गया। बताते है की 80 के दशक में सरदार रतन सिंह रतन की यह कविता ‘छोटी मांग खालसा केवल खालिस्तान की, हमकों तो प्राणों से प्यारी धरती हिंदुस्तान की’ के रचियता देशभक्ति से परिपूर्ण सरदार रतन सिंह रतन के निधन पर मजीठियां बोर्ड यूपी के सदस्य, आॅनलाईन न्यूज चैनल ताजाखबर.काॅम के चेयरमेन श्री अंकित बिश्नोई, शिक्षा विद सरकार कमेन्द्र सिंह सरदार एनपी सिंह, चरित्र अभिनेता गिरिश थापर व एक्टर कबीर सिंह मुम्बई, कांग्रेस नेता राजकेसरी, देवेन्द्र गोयल, वरिष्ठ राजनेता चैधरी यशपाल सिंह, अन्नपूर्णा चेरिटेबल हाॅस्पिटल के महामंत्री श्री ब्रजभुषण गुप्ता तथा कौमी एकता संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष भाजपा नेता संदीप गुप्ता ऐल्फा, रिश्तों का संसार के सम्पादक संचालक महेश शर्मा आदि ने शोक व्यक्त करते हुए उन्हे अपनी श्रद्धाजंलि अर्पित की और कहा की उनके निधन से साहित्य जगत को अपूर्णीय क्षति पहुंची है।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eleven + 18 =