मेरठ के शहीद हवलदार अनिल तोमर को शौर्य चक्र

0
207

मेरठ, 26 जनवरी (प्र)। मेरठ के शहीद हवलदार अनिल तोमर को शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया है। सिसौली निवासी शहीद हवलदार अनिल तोमर दिसंबर 2020 में आतंकियों से लड़ते हुए शहीद हो गए। उन्होंने शहादत से पूर्व दो आतंकवादियों को मार गिराया था। गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर भारतीय सेना की ओर से मेरठ के सिसौली निवासी राजपूत रेजीमेंट के हवलदार अनिल कुमार तोमर समेत छह सैन्य कर्मियों को उनकी विशिष्ट सेवा के लिए देश के तीसरे सर्वोच्च शांतिकालीन वीरता पुरस्कार शौर्य चक्र से सम्मानित किए जाने की घोषणा की गई है। जिला सैनिक कल्याण अधिकारी कैप्टन राकेश शुक्ला ने बताया कि यह मेरठ जिले ही नहीं देश, प्रदेश का सम्मान है। रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक गणतंत्र दिवस पर सेना और सरकार ने हवलदार अनिल कुमार तोमर समेत छह सैन्यकर्मियों को शौर्य चक्र से सम्मानित किया है, जिनमें पांच को मरणोपरांत सम्मानित किया गया। सिसौली निवासी राजपूत रेजीमेंट के हवलदार अनिल कुमार तोमर को दिसंबर 2020 में जम्मू कश्मीर में एक कॉम्बैट एक्शन टीम का नेतृत्व करते हुए दो आतंकवादियों को मार गिराने के लिए मरणोपरांत शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया है। शौर्य चक्र से सम्मानित होने वाले वह मेरठ के चंद जांबाजों में से एक हैं। मेरठ के लिए यह बहुत बड़ा सम्मान है। इसी माह मेरठ के अनुज मावी को सेना मेडल से सम्मानित किया गया है। इस तरह मेरठ का देश सेवा के लिए एक महीने में दूसरा बड़ा सम्मान हुआ है। इसी तरह जाट रेजीमेंट के हवलदार पिंकू कुमार को एक ऑपरेशन के दौरान एक आतंकवादी को मार गिराने के लिए मरणोपरांत शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया है। उन्होंने अपनी जान गंवाने से पहले दूसरे आतंकवादी को गंभीर रूप से घायल भी कर दिया था।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here