चारधाम यात्रा के लिए अब तक पौने तीन लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने कराया पंजीकरण

0
141

ऋषिकेश. चारधाम सहित श्री हेमकुंड धाम की यात्रा के लिए अब तक 2,88885 श्रद्धालुओं ने अपना आनलाइन पंजीकरण कराया है। संयुक्त रोटेशन यात्रा व्यवस्था समिति के तहत अब तक करीब 700 बसों की एडवांस बुकिंग हो चुकी है। बीते दो वर्ष तक कोरोना संक्रमण के कारण चारधाम यात्रा प्रभावित रही है। इस वर्ष अब तक सारी स्थिति अनुकूल है। जिसका असर चारधाम यात्रा पर आने वाले यात्रियों के पंजीकरण की संख्या के रूप में दिख रहा है।

वर्ष 2013 की आपदा के बाद शासन की ओर से त्रिलोक सिक्योरिटी सिस्टम कंपनी को श्रद्धालुओं के फोटो मैट्रिक पंजीकरण की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। इस वर्ष व्यवस्था में परिवर्तन किया गया है। एथिक्स इन्फोटेक कंपनी को यह काम सौंपा गया है। पंजीकरण व्यवस्था आनलाइन कर दी गई है।

अक्षय तृतीया यानी तीन मई को यमुनोत्री और गंगोत्री धाम के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए जाएंगे। केदारनाथ धाम के कपाट छह मई और बदरीनाथ धाम के कपाट आठ मई को खुल जाएंगे। श्री हेमकुंड धाम के कपाट 22 मई को खुल रहे हैं।

पंजीकरण करने वाली संस्था एथिक्स इन्फोटेक के माध्यम से इस वर्ष यात्रा के लिए गत शाम तक 2,88885 श्रद्धालु अपना पंजीकरण करा चुके हैं। एथिक्स इन्फोटेक के प्रोजेक्ट मैनेजर प्रेम अनंत ने बताया कि यमुनोत्री के लिए 47066, गंगोत्री के लिए 48806, केदारनाथ के लिए 105941, बदरीनाथ के लिए 84708 और श्री हेमकुंड धाम के लिए 2362 श्रद्धालुओं ने अपना पंजीकरण कराया है।

संयुक्त रोटेशन यात्रा व्यवस्था समिति के प्रभारी नवीन तिवाड़ी ने बताया कि 26 मई तक चारधाम के लिए 525 बसों की एडवांस बुकिंग संयुक्त रोटेशन के माध्यम से हो चुकी है। दो धाम के लिए 180 बसों की एडवांस बुकिंग हो चुकी है। उन्होंने बताया कि संयुक्त रोटेशन की ओर से इस वर्ष 1000 बसों का बेड़ा यात्रा के लिए उपलब्ध कराया गया हैं।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here