मेरठ में इतना बढ़ गया प्रदूषण कि आॅक्सीजन भी कम पड़ गई

0
69

मेरठ 10 नवंबर। वायुमंडल में छाई धुंध में दीवाली का धुआं मिलते ही खतरनाक प्रभाव उभर आए। लोगों के शरीर में आक्सीजन की मात्रा घट गई है। ओपीडी में पहुंचे तमाम मरीजों को भर्ती करना पड़ा। खासकर, जिन मरीजों में आक्सीजन की मात्रा 93 फीसद थी, उनमें यह घटकर 85 के आसपास रह गई। अस्थमा, हार्ट एवं किडनी के मरीजों के लिए ये हालात खतरनाक हैं। पटाखों में गंधक, मैग्नीशियम, पोटाश, लेड, सोडियम जैसी कई धातुएं होती हैं। बड़ी मात्रा में चली आतिशबाजी एवं पटाखों का जहरीला धुआं आसमान में पहुंचा।

धुएं के साथ बड़ी मात्रा में कार्बन मोनोआक्साइड गैस उत्सर्जित हुई, जो हवा में आक्सीजन खत्म करती है। उधर, गत 15 दिन से एनसीआर में स्माग की धुंध ने अब सेहत का दम घोंटना शुरू कर दिया।मेरठ की हवा में लंबे समय से सल्फर डाई आक्साइड, नाइट्रोजन डाई आक्साइड, कार्बन डाई आक्साइड की मात्रा ज्यादा बनी हुई है।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

one × 2 =