बाप को वृद्धाश्रम में छोड़ने पहुंचा बेटा, आंखों में छलके आंसू

0
143

मेरठ, 13 फरवरी (प्र) बेटा हुआ तो परिवार ने जश्न मनाया। समय बीतता चला गया। पिता ने उंगली पकड़कर बेटे को चलना सिखाया। गोदी में खिलाया। इच्छाएं पूरी की। अच्छे स्कूल में पढ़ाया। बेटा बड़ा हुआ तो नौकरी करने लगा। फिर शादी हुई। जिस पिता ने बेटे को इस मुकाम पर पहुंचाया, उसकी जिंदगी की ढलती सांझ बोझ लगने लगी। जैसे-तैसे दिन गुजरते गए। बेटा पिता को ताने देने लगा। फिर एक दिन बेटा अपने पिता को शहर से बाहर घुमाने के बहाना लेकर गया और वृद्धाश्रम छोड़कर चला आया। बेटा और बहु खुश हैं कि अब बूढ़े की कोई बात सुनने को नहीं मिलेगी।
पिता और बेटे की इस मार्मिक नाटिका को देखते ही दर्शकों की आंखों में आंसू छलक उठे। मेरठ कॉलेज के मूट कोर्ट हॉल में सृजन-2020 के आखिरी दिन हुई विभिन्न प्रस्तुतियों में छात्र-छात्राओं ने सामाजिक मुद्दों और विषमताओं को प्रमुखता से उठाया। पिता को पुत्र द्वारा वृद्धाश्रम छोड़ने की इस नाटिका के जरिए छात्रों ने छिन्न-भिन्न होते सामाजिक ताने-बाने पर वार किया। छात्रों ने एसिड अटैक और मोबाइल प्रेम को भी बखूबी उठाया। एसिड अटैक नाटिका में छात्रों ने महिला की आत्मा पर होने वाले हमले की पीड़ा को पेश किया। मोबाइल प्रेम में सबकुछ भूलकर केवल मोबाइल के चक्कर में फंसे युवा की वास्तविकता को दर्शाया गया। मुख्य अतिथि डाॅ..एसके अग्रवाल और प्राचार्या डाॅ.संगीता गुप्ता ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।
नाटक, नृत्य और गायन में विजेता बने स्टूडेंट
एकल अभिनय में शृंखला मानिक प्रथम, सईम जावेद द्वितीय एवं कार्तिक तृतीय रहे। निर्णायक में कुसुम बंसल, मिलिंद सिंह शामिल रहे। समूह नृत्य में छह संकायों के छात्र-छात्राओं ने हिस्सा लिया। प्रत्येक संकाय से 10-12 प्रतियोगी शामिल रहे। समूह नृत्य में वाणिज्य संकाय, सेल्फ फाइनेंस संकाय द्वितीय, कला संकाय तृतीय रहे। समूह नृत्य के निर्णायक में डाॅ.जीनत जैदी, स्वाति शर्मा एवं डाॅ.साहिल शर्मा रही। संयोजिका डाॅ.अलका चैधरी के अनुसार मेरठ कॉलेज से विज्ञान संकाय प्रथम, विधि संकाय द्वितीय, एजुकेशन संकाय तृतीय और सेल्फ फाइनेंस संकाय चतुर्थ, वाणिज्य संकाय पंचम एवं कला संकाय छठे स्थान पर रहे। पूर्व प्राचार्य डाॅ.एसके अग्रवाल ने छात्र-छात्राओं से पढ़ाई के साथ बाकी क्षेत्रों में भी अपनी प्रतिभा को निखारने की अपील की। कार्यक्रम में डाॅ..एसकेएस यादव, डाॅ.संगीता उपाध्याय, डाॅ.अशोक शर्मा, डाॅ.अरविंद, डाॅ.नूपुर चटर्जी, डाॅ.मोनिका भटनागर, डाॅ.अनिता मलिक, डाॅ.कविता, डाॅ.दीपक शर्मा, डाॅ.मंजू, डाॅ.मोनिका भटनागर आदि रहे।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two + nineteen =