Saturday, July 20

छात्रों ने मेरठ कालेज में किया प्रदर्शन, फर्जी प्रमाणपत्रों से दाखिलों का लगाया आरोप

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ 08 नवंबर (प्र)। मेरठ कॉलेज प्राचार्य कार्यालय पर मंगलवार को छात्रों ने विरोध प्रदर्शन किया। फर्जी प्रमाण पत्रों के आधार पर कई दाखिले करने का आरोप लगाया। प्रदर्शनकारी छात्रों ने चेतावनी दी यदि मांगों पर उचित कार्रवाई नहीं हुई तो बड़ा आंदोलन करेंगे। प्राचार्य प्रो. अंजलि मित्तल ने कहा आरोपों से संबंधित साक्ष्य छात्रों से मांगे हैं। साक्ष्य मिलने पर जांच कराई जाएगी। गड़बड़ी मिलेगी तो संबंधित के खिलाफ कार्रवाई होगी।

छात्र नेता विजित तालियान के नेतृत्व में छात्र मेरठ कॉलेज के गेट पर एकत्रित हुए, जहां से नारेबाजी करते हुए प्राचार्य कार्यालय पहुंचे। प्राचार्य प्रो. अंजलि मित्तल छात्रों से मिलने आई छात्रों ने ज्ञापन देकर कई अभ्यर्थियों के फर्जी दस्तावेज के आधार पर दाखिला करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा सही प्रमाणपत्र वाले अभ्यर्थियों को दाखिला नहीं मिल रहा है, जबकि जानबूझकर फर्जी दस्तावेज के आधार पर दाखिले हुए हैं। इससे छात्रों के भविष्य से खिलवाड़ करने का काम कर है। सभी दाखिलों की गहनता से जांच करा फर्जी दाखिलों को विवि को जांच का देना पड़ता है शुल्क निरस्त कर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए।

छात्रों ने कहा कि कॉलेज प्रशासन छात्रों को छात्रावास नहीं दे रहा है। 10 दिन पहले छात्रावास के लिए 50 से अधिक रजिस्ट्रेशन कराए गए हैं, मगर अभी तक किसी भी छात्र के पास फीस जमा कराने का नोटिस नहीं भेजा गया। इस वजह से छात्रों को काफी समस्या का समाना करना पड़ रहा है। छात्रों ने कहा कॉलेज प्रांगण में बने शौचालय की साफ-सफाई हफ्तों नहीं होती है, जिसकी वजह से विद्यार्थियों को काफी दिक्कत हो रही है। प्रदर्शन के दौरान प्रियांशु मलिक, अंकुर तोमर, उत्कर्ष, लकी, अरुण वत्स, आर्यन, कुशल, गौरव पंडित मौजूद रहे।

प्राचार्य ने बताया कि छात्रों ने तमाम दाखिला फर्जी दस्तावेज के आधार पर कराने का आरोप लगाया है। यदि विधि के स्तर प्रमाणपत्रों की जांच कराते हैं, तो प्रति छात्र 50 रुपये के हिसाव से भुगतान करना होगा। इसलिए छात्रों से साक्ष्य मांगे हैं, जिसके आधार पर संभावितों की जांच कॉलेज स्तर से कराई जाएगी।

Share.

About Author

Leave A Reply