पहली परिक्षा में सफल हुई मेयर, अगर जाम में नही फंसी तो अच्छा रहेगा कार्यकाल

0
821

मेरठ 13 दिसम्बर। वैसे तो 7वीं नवनिवार्चित महापौर एक चर्चित राजनैतिक परिवार से सबंध है उनके पति योगेश वर्मा एक बार हस्तिनापुर विधानसभा क्षेत्र से विधायक रह चुके है तो कई बार चुनाव भी लड़ चुके है लेकिन इसलिए राजनैतिक ज्ञान तो उन्हे भरपूर होगा इस बात से इनकार नही किया जा सकता क्योकि परिवार में चलने वाली गतिविधियों से काफी कुछ बिना प्रयास करे ही आ जाता है।
मगर पहली बार महापौर का चुनाव लड़ी और अच्छे बहुमत से जीत भी गयी सुनीता वर्मा अपनी पहली परिक्षा में अत्यंत सफल रही। क्योकि महापौर की शपथ मेरठ मंडलायुक्त डाॅ प्रभात कुमार द्वारा शपथ ग्रहण करा दिये जाने के उपरांत पत्रकारो ने उन्हे घेर लिया और सवालों की जो बौछार लगायी अगर उससे कोई अनुभवहीन होता तो बोखलहाट में कुछ भी जवाब दे सकता था लेकिन नवनियुक्त महापौर ने बड़े ही सरल शब्दों में पूरे धैर्य और आत्मविश्वास के साथ सवालों के जवाब देते हुए कहा की हम सबकों साथ लेकर चलेगे विकास कराने के लिए जीते है उसे पूरा कर करेगे और जिन्ह प्रश्नों का उतर नही देना था उन्हे वो मुस्कुरातें हुए टाल गयी। तदउपरांत अपने पहले आदेश में उनके द्वारा सहयोगी अधिकारियो को जो मलीन और गरीब बस्तियों मे सुधार व अन्य निर्देश दिये गये वो पूरी तौर पर समयानुकूल थे। जिसे देखकर यह कहा जा सकता है कीवो अपनी पहली परिक्षा में तो पास हो ही गयी।
अब वो अगर जाम में फंसने से बचकर समय से सब निर्धारित जगहो पर पहुंचने लगी तो वो एक सफल मेयर इस महानगर वासियों के लिए सिद्ध हो सकती है क्योकि स्मरण रहे की चुने जाने के उपरांत उनके द्वारा एक होटल में जो पत्रकार सम्मेलन बुलाया गया। उसमें भी वो जाम के नाम पर देर से पहुंची और कल सबसे महत्चपूर्ण कार्य शपथ जो समय से ही ली जानी चाहिए उसमें भी जाम में फंसने के नाम पर वो काफी देर से समारोह स्थल पहुंची और व्यवस्था जनहित में ठीक नही है।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here