होटलों में रंगरलियां प्रकरण बना रहा चर्चाओं का विषय

0
736

मेरठ 21 मार्च। शहार के कुछ होटलों में रंगरलियां मनाने के अड्डे हो गए हैं। यह चर्चा तो आये दिन सुनने और खबरे पढ़ने को मिलती ही रहती थी। लेकिन एक साथ 41 जोड़े यानी 82 युवक-युवतियों को होटल लाभ महल, प्रिंस, खालसा और शेरे पंजाब आदि में एक साथ पकड़ा जाना और फिर उन्हे ले जाने के लिये बस मंगवाना आज भी तमाम स्थानों पर चर्चाओं का विषय बना रहा। एक छपी खबर के अनुसार ऐसे प्रकरणों को लेकर पुराने रिकार्ड का हवाला देते हुए एसएसपी की रिपोर्ट पर डीएम ने शेरे पंजाब, प्रिंस, लाभ महल, खालसा और करनैल तथा स्वामी होटल को सील करने के आदेश दिए गए बताए जा रहे है। नागरिकों में चर्चाओं के साथ यह बात स्पष्ट तौर पर की जा रही थी कि यह 6 होटल थाना सदर बाजार क्षेत्र में आते हैं। और इतने बढ़े रंगरलियों चलने के रैक्ट की सूचना पुलिस को न हों ऐसा संभव नहीं है। चैकी प्रभारी ओम प्रकाश के साथ साथ इंस्पेक्टर सदर को भी जांच पूरी होने तक थाने से हटाना चाहिये था। क्योंकि अगर उनकी गैर जानकारी में यह हो रहा था तो भी उनकी ही गलती है और अगर जानकारी में था तो भी। इसलिये सदर पुलिस की शह पर ही होटलों में चल रहा था यह गोरखधंधा। तो कुछ नागरिकों में होने वाली चर्चा से यह बात भी स्पष्ट हो रही थी कि शहर के ज्यादातर होटल ऐसी रंगरलियो से प्राप्त आमदनी या हुक्का बार के कारण ही चल रहे हैं। और इस गैर कानूनी धंधे की जानकारी क्षेत्र के थानों को पूरी तौर पर होती है बस पुलिस कारण कोई भी हो आंख बंद कर बैठी रहती है। पकड़े गए होटल मालिकों सहित गत शाम तक 38 पर मुकदमा दर्ज हुआ बताया गया।

इस संदर्भ में होटल मालिकों का यह भी कहना था कि पुलिस वालो आदि को होटल में कमरे और खाना व वीआईपी के आने पर अन्य व्यवस्थाएं उनके द्वारा की जाती है पता नही फिर क्राइम ब्रांच के लोग क्यो नराज हो गए जो यह छापे की कार्रवाई हुईं। बताते चले कि छापे में मेरठ के ही नहीं आसपास के जिले व कस्बें तथा प्रदेशों के युवक युवती भी पकड़े गए जिनमे से कोई स्कूल जाने के बहाने घर से निकला तो कुछ किसी बहाने सें और धीरे धीरे सभी इन होटलों में पहुंच गए। जब इनके अभिभावक थाने पहुंचे तो वो पूछ रहे थे तो फार्म भरने गया था तुम तो काॅलेज गई थी। बस यही कमी रह गई थी हमारा सिर झुकाने की। कुछ पकड़े गए युवक युवती यह कहते भी सुने गए थे कि यार दो घंटे के दो से चार हजार तक देने के बाद भी अगर पकड़े गए तो इन होटलों वालों की क्या व्यवस्था पुलिस से क्या सेटिंग रही। बताते हैं कि कुछ युगल दिल्ली व उत्तराखंड के भी इनमे शामिल थे। एक जोडा तो प्रैक्टिकल देने कालेज जाने की बजाए होटल में मस्ती करने पहुंच गया। गत दिवस तो इस पकड़ा धकडी के बाद सोशल मीडिया पर यह भी विषय सबसे ज्यादा चर्चाओं वाला रहा। कई चैनलों ने भी खूब चलाया और आज समाचार पत्रों की सुर्खियां यह मामला बना हुआ था। दूसरी ओर चाय के खोखे खाने के ढाबे अफसरों के कार्यालय, बस अड्डो व डाॅक्टरों के क्लीनिक आदि भी इस चर्चा से अलग नहीं थे। वहीं पुलिस की कार्यप्रणाली को लेकर अनेक चर्चाएं भी चल रही थी।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here