26 दिसम्बर से जनपद में चलेगा क्षय रोग खोज अभियान डाक्टर द्वारा बताये गये दवाइयों के कोर्स को पूरा करें मरीज-डीएम

0
769

मेरठ. जनपद में क्षय रोग के रोगियों को चिन्हित करने व उनकों निशुल्क उपचार उपलब्ध कराने के दृष्टिगत प्रशासनिक स्तर पर शासन के निर्दंेशों के अनुक्रम में रूप रेखा तैयार कर ली गयी हैख् जिसके अनुसार आगामी 26 दिसम्बर से 09 जनवरी तक जनपद में मुख्य रूप से मलिन बस्तियों में सघन क्षय रोग खोज अभियान कार्यक्रम चलाया जाएगा जिसके लिए 13 नोडल अधिकारियों नेतृत्व में 192 दल कार्य करेंगे। जिलाधिकारी समीर वर्मा ने अभियान का सफल बनाने व मरीजों से कोर्स पूरा कर बीमारी से मुक्ति पाने का आहवान किया।
कलेक्ट्रेट स्थित बचत भवन में क्षय रोग नियंत्रण के सम्बंध में आहुत बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी समीर वर्मा ने उक्त जानकारी दी। उन्होंने कहा कि क्षय रोग एक लाइलाज बीमारी नहीं है इसका सरकारी अस्पतालों में बढिया व बेहतर उपलब्ध कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मरीज डाक्टर द्वारा बताये गये दवाइयों के कोर्स को पूरा करें व बीच में न छोड़े। उन्होंने अधिकारियों से अभियान को सफल बनाने के लिए निर्देशित किया।
मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 राजकुमार ने बताया कि जनपद में 26 दिसम्बर से 09 जनवरी तक सघर क्षय रोग अभियान संचालित किया जाएगा। अभियान मुख्यतः मलिन बस्तियों में चलाया जाएगा जिसके लिए 192 दल बनाये गये है प्रत्येक दल में तीन सदस्य होंगे तथा इसके लिए पंाच दल के ऊपर 01 सुपरवाइजर बनाया गया है इस प्रकार कुल 38 सुपर वाइजर बनायें गये है तथा 15 दल के ऊपर चिकित्साधिकारियों को नोडल अधिकारी बनाया गया है। उन्होंने बाताया कि कुल 12 नोडल अधिकारी बनाये गये है। उन्होंने बताया कि अभियान की सफलता के लिए धर्म गुरूओं का सहयोग भी लिया जाएगा।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि क्षय रोग की प्रथम स्टेज की बीमारी का पूरा कोर्स 06 माह का तथा द्वितीय स्टेज की बीमारी का पूरा कोर्स 08 माह का होता है तथा एमडीआर (मल्टी ड्रग रजिस्टेन्शं) के मरीजों का पूरा कोर्स दो साल का होता है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2016 में क्षय रोग 6536 मरीजों को चिन्हित किया गया था।
जिला क्षय रोग अधिकारी डा0 एमएस फौजदार ने बताया कि अगर किसी को दो या दो हफतों से ज्यादा की खांसी है, बलगम के साथ खून आ रहा हे और शाम को बुखार आ रहा है तो ऐसे मरीजों को टीवी की जांच करानी चाहिए। उन्होंने बताया कि अभियान से जुड़े दल घर-घर जाकर मरीजों को चिन्हित करेंगे तथा उनके स्पूटम (थूक) का नमूना लेंगे।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी आर्यका अखौरी, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, डीपीओ ज्ञानप्रकाश तिवारी सहित अन्य सम्बंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here