विनीत अग्रवाल शारदा चाहते क्या हैं; अमित शाह कड़वी भाषा बोलने से मना कर रहे हैं वो वोटरों को लालची बता रहे हैं

0
169

मेरठ, 14 फरवरी (विशेष संवाददाता)   दिल्ली प्रदेश विधानसभा चुनाव में देश के गददारों को भारत-पाक मैच और बलात्कार जैसे भाजपा के प्रमुख नेताओं द्वारा दिए गए बयानों को वहां के चुनाव परिणाम आने के बाद केंद्रीय गृहमंत्री और पार्टी के सबसे दमदार नेताओं में से एक भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने गलत माना है और कहा है कि नेताओं को नहीं बोलनी चाहिए थी नफरत की भाषा। अमित शाह साहब ग्रामीण कहावत भूली बिसरी बिसार दे आगे की सुध ले को ध्यान में रखते हुए मुझे लगता है कि अब अनुशासित पार्टी के रूप में पहचानी जाने वाली भाजपा को अपने नेताओं को संयम में रहने और सोच समझकर बोलने का संदेश दे ही देना चाहिए क्योंकि भले ही यूपी में अभी चुनाव ना हो लेकिन भविष्य में तो विधानसभा चुनाव भी होने हैं और अन्य लोकतांत्रिक संस्थाओं का निर्वाचन भी होता ही रहता है। ऐसे में यूपी भाजपा व्यापार प्रकोष्ठ के प्रमुख पदाधिकारी श्री विनीत शारदा के बिगड़े बोल काफी नुकसान पहुंचा सकते हैं। बताते चलें कि अपने विवादित बयानों के लिए पहचाने जाने वाले भाजपा नेता विनीत अग्रवाल शारदा एक बार फिर अपने ट्वीट को लेकर सुर्खियों में है। दिल्ली चुनाव में आप की प्रचंड जीत पर उन्होंने दिल्ली की जनता को लालची व अरविंद केजरीवाल को ठग बता दिया है। भाजपा नेता विनीत अग्रवाल शारदा ने ट्वीट किया है कि दिल्ली के चुनाव परिणाम देखकर चाणक्य की बात याद आ गई। जिस राज्य की प्रजा लालची हो वहां सिर्फ ठग शासन करता है। दिल्ली चुनाव में आम आदमी पार्टी की प्रचंड जीत को लेकर उन्होंने ऐसा ट्वीट किया है।

क्योंकि दिल्ली के ही क्या किसी भी वोटर को लालची नहीं कहा जा सकता और वैसे भी भारत निर्वाचन आयोग द्वारा किसी भी प्रकार का प्रलोभन देने पर रोक लगाई हुई है ऐसे में तो श्री अग्रवाल को ऐसे बोल नहीं बोलने चाहिए और वो भी उस परिस्थिति में जब पार्टी के सुप्रीम नेताओं द्वारा कड़वे बोल से परहेज रखने को कहा जा रहा हो।
राजनीति में नाम और फोटो की चाह ज्यादातर को रहती है चाहे वह लीडर छोटा हो या बड़ा लेकिन इस चक्कर में पार्टी के नीति के विपरीत मतदाताओं का अपमान करने वाले बयान देना किसी के लिए भी ना तो उचित है और ना ही पार्टी हित में कहा जा सकता है।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three × 2 =