शिक्षक की पिटाई से दलित लड़के की मौत पर हिंसक विरोध प्रदर्शन

0
62

औरैया. उत्तर प्रदेश के औरैया जिले में आज 15 वर्षीय एक दलित लड़के की मौत के बाद हिंसक विरोध प्रदर्शन हुआ। स्कूल के एक शिक्षक ने कथित तौर पर लड़के की पिटाई की थी, जिससे उसकी मौत हो गई। फरार आरोपी शिक्षक की तत्काल गिरफ्तारी की मांग करते हुए भीम आर्मी और परिवार के सदस्यों ने शुरू में शव का अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया था। उन्होंने जिले के अछल्दा इलाके में स्कूल के बाहर सड़क पर धरना दिया। विरोध प्रदर्शन जल्द ही हिंसक हो गया। कुछ गुस्साए लोगों ने पुलिस की जीप में आग लगा दी और कथित तौर पर पुलिसकर्मियों पर पथराव भी किया।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के मौके पर पहुंचने और त्वरित कार्रवाई का आश्वासन देने के बाद लड़के के परिवार और भीम आर्मी के सदस्य आखिरकार उसके शव को दाह संस्कार के लिए अपने गांव ले जाने के लिए तैयार हो गए।

एसपी चारु निगम ने कहा, “स्कूल शिक्षक की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीमों का गठन किया गया है।” लड़के को उसके स्कूल शिक्षक अश्विनी सिंह ने कथित तौर पर 7 सितंबर को कथित तौर पर पीटा था, क्योंकि उसने सामाजिक विज्ञान की परीक्षा में ‘सामाजिक’ के बजाय ‘समाज’ लिखा था। गत दिवस पड़ोसी जिले के सरकारी अस्पताल ले जाते समय उसकी मौत हो गई और शाम में पोस्टमार्टम के बाद उसका शव उसके परिवार को सौंप दिया गया।

पुलिस को दी शिकायत में लड़के के पिता ने दावा किया कि शिक्षक ने 7 सितंबर को उसके बेटे पर डंडों से हमला किया और उसे तब तक लात मारी, जब तक कि वह बेहोश होकर गिर नहीं पड़ा। छात्र का कसूर यह था कि उसने सामाजिक विज्ञान की परीक्षा के दौरान एक शब्द गलत लिखा था। शिकायत में कहा गया है कि शिक्षक ने पहले लड़के के इलाज के लिए 10,000 रुपये और फिर 30,000 रुपये दिए, लेकिन बाद में उसका फोन बंद रहने लगा। वह फरार हो गया।लड़के के पिता का कहना है कि जब वह शिक्षक से बात करने गए तो उसने जातिसूचक गालियां दीं।

पुलिस ने पिता की शिकायत पर मामला दर्ज किया है। एफआईआर में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम की धाराओं को भी शामिल किया गया है।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here