सीईओ साहब दें ध्यान, करे मौका मुआयना, कहां है पार्किंग, क्या कैंट की 210 बी कोठी में होने वाले निर्माण के लिए नियम बदल दिए गए हैं

0
355

मेरठ, 01 दिसंबर (नगर संवाददाता) कैंट क्षेत्र में होने वाले अवैध निर्माण पर कार्रवाई किए जाने में संबंधित अफसरों द्वारा अपनाई जाने वाली दोहरी नीति हमेशा चर्चा में रही है लेकिन फिलहाल छावनी परिषद में सदर घंटाघर पर बंगला नंबर 210 बी के बगल में डेरावाल चाट का भवन निर्माण हो रहा है। चारों तरफ से ढककर जिस तरह से निर्माण हो रहा है, उसे देखकर साफ है कि अवैध हो रहा है। जबकि दूसरी ओर कैंट बोर्ड की ओर से साफ कर दिया गया है कि भवन का नक्शा पास है, वहां किसी भी तरह का अवैध निर्माण नहीं हो रहा है।
आबूलेन में 210बी के बगल में यह निर्माण हो रहा है। जहां कुछ साल पहले 210बी के बंगला का कॉम्पलैक्स गिराया गया था। ऐसे में उस बंगले से सटे लगभग सड़क पर कामर्शियल भवन बनने से लोग तरह तरह के सवाल भी उठा रहे हैं। कुछ लोगों ने बेसमेंट बनने की भी शिकायत की है। जबकि कैंट बोर्ड के सीईओ नवेंद्र नाथ का कहना है कि प्रापर्टी पांच लोगों के नाम से है। जिसका उन्होंने म्यूटेशन कराकर नक्शा पास कराया है। छावनी में इसके अलावा भी कई नक्शे पास किए गए हैं। नियमानुसार जो भी होगा उसका नक्शा आसानी से पास किया जाएगा। इसमें किसी को भी अनावश्यक चक्कर काटने की जरूरत नहीं है।
सदर घंटाघर पर बिल्कुल सड़क किनारे होते चित्र में नजर आ रहे इस निर्माण में एक खबर के अनुसार छावनी बोर्ड के अफसरों का कहना है कि इसका नक्शा पास है।
यह तो बहुत ही अच्छी बात है लेकिन क्या अवैध निर्माण रोकने वाला अफसर यह बता सकता है कि निर्माण के सभी नियमों को ताक पर रख जो यह निर्माण हो रहा है क्या इसके लिए रक्षा मंत्रालय द्वारा निर्धारित नियमों में ढील दी गई है और अगर नहीं तो इस प्रकार का निर्माण सिविल क्षेत्र में भी नहीं हो सकता।
अगर कोई रियायत नियमों में दी गई है तो छोटे निर्माणों को अवैध बताकर उनके खिलाफ क्यों कार्रवाई का ढिंढोरा पीटा जाता है। सीईओ साहब एक बार इस निर्माण का मौका मुआयना कर लीजिए तो पता चलेगा कि क्या इसका नक्शा इसी प्रकार से पास किया गया था और यह नियमों के अनुसार हो रहा है या नहीं। तथा इसमें पार्किंग की क्या व्यवस्था है।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here