अद्भुत संयोग: इस वर्ष सावन में पांच सोमवार

0
235

मेरठ 30 जून (प्र) देवों के देव महादेव के प्रिय सावन मास की शुरूआत छह जुलाई से हो रही है। इस बार सावन में सोमवार का अद्भुत संयोग बन रहा है। सावन की शुरूआत व समापन दोनों सोमवार को होंगे, जो इस बार के सावन को खास बनाएगा। वहीं, ज्योतिषाचार्य आलोक शर्मा के अनुसार सावन में ग्रह नक्षत्र का संयोग बन रहा है उस में झमाझम बारिश होने की संभावना है। सावन का समापन तीन अगस्त होगा। इसी दिन रक्षाबंधन का पर्व मनाया जाएगा। मगर पवित्र माह सावन की आस्था पर भी कोविड-19 की काली छाया पड़ गई है।इसलिए शिव मंदिरों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए जलाभिषेक तो होगा, लेकिन देवाधिदेव के दर्शन के लिए न तो कतारे लगेंगी और न ही शोभायात्रा निकाली जा सकेगी। सावन में निकलने वाली कावड़ यात्रा को लेकर हर साल महीने भर पहले ही तैयारियां शुरू हो जाती थी, लेकिन इस बार घर मंदिरों से लेकर बाजार तक हर तरफ उत्साह ठंडा पड़ा है। कांवड़, कलश, गेरुआ वस्त्रों का बाजार नहीं सजा है। इन सबके बीच मंदिरों में सावन के अभिषेक पूजा की तैयारियां की जा रही है। बता दें कि सावन में सोमवार का अधिक महत्व होता है।

क्योंकि यह दिन बाबा भोलेनाथ को अति प्रिय है। इसलिए सोमवार को बाबा के दर्शन का अधिक महत्व माना जाता है। इस बार सावन माह में ही 36 शुभ योग पड़ रहे हैं। इससे सावन की शुभता और अधिक बढ़ जाएगी। इस महीने में 11 सर्वार्थ सिद्धि योग, 10 सिद्धि योग, 12 अमृत योग और तीन सिद्धि योग मिलेंगे।सावन छह जुलाई से प्रारंभ होकर तीन अगस्त तक रहेगा। इसके साथ ही 10 जुलाई को मौनी पंचमी, 14 जुलाई को मंगला गौरी व्रत, 16 जुलाई को एकादशी, 18 जुलाई को प्रदोष व्रत, 20 जुलाई को सोमवती अमावस्या, हरियाली तीज 23 जुलाई को और तीन अगस्त को रक्षाबंधन का पर्व जाएगा।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twelve − eleven =