योगी सरकार बहुजन समाज को सुरक्षा प्रदान करने में रही नाकाम : लक्ष्य

0
36

भारतीय समन्वय संगठन (लक्ष्य) की यूथ टीम ने सहारनपुर में भीम सैनिक सचिन वालिया की हत्या के विरोध में एक आक्रोश प्रदर्शन हरियाणा के जिला फरीदाबाद के बी. के. चौक पर किया जिसमें प्रदर्शनकारियों ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी का पुतला जलाकर व जोशीले नारे लगाकर अपना आक्रोश दर्शाया। प्रदर्शनकारियों ने सरकार से दोषियों को फांसी देने की मांग की।

लक्ष्य की महिला कमांडर कविता जाटव व मंजू गौतम ने सहारनपुर में हुई भीम सैनिक सचिन वालिया की हत्या पर दुःख प्रकट करते हुए कहा कि इस केस में शासन प्रशासन की भूमिका भी न्याय संगत नहीं लगी। उन्होंने कहा कि जब से उत्तर प्रदेश में योगी की सरकार बनी है जब से दबंगों के हौशले बढे हैं व बहुजन समाज पर अत्याचारों में काफी तेजी के साथ बढ़ोत्तरी हुई है जोकि लोकतंत्र के लिए एक बड़ा खतरा है। उन्होंने कहा कि एक तरफ तो योगी दलितों के घरो में खाना खाने का ढोंग कर रहे हैं वहीं दूसरी तरफ उनको सुरक्षा देने में नाकाम रहे हैं।

लक्ष्य के यूथ कमांडर नीरज नाहरवाल, मनीष गौतम, महेंद्र कर्दम व धर्मेन्द्र कुमार ने कहा कि अगर शासन प्रशासन चाहता तो यह घटना टाली जा सकती थी और बहुजन समाज के युवा भीम सैनिक सचिन वालिया की दुखद हत्या न होती। उन्होंने चेतावनी भरे शब्दों में कहा कि अब दबंग बहुजन समाज को कमजोर समझने की भूल न करें क्योंकि बहुजन समाज का युवा अब किसी भी प्रकार के शोषण का विरोध करने में सक्षम हो गया है। उन्होंने सरकार से मांग करते हुए कहा कि वो इस घटना की सी.बी.आई. से जाँच कराये व फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट के माध्यम से दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दे तथा इस प्रकार के अत्याचारों से कड़ाई से निपटे ताकि देश के संविधान का सम्मान हो सके।

लक्ष्य के एन.सी.आर. प्रभारी गंगालाल गौतम, दिल्ली से आये लक्ष्य कमांडर जयपाल सिंह व लक्ष्य के सलाहकार निर्मल सिंह ने कहा कि जब बहुजनों पर अत्याचार होते हैं तब सरकार में बैठे बहुजन समाज के नेता अपना मुँह तक नहीं खोलते है जोकि बहुत दुखद है उन्होंने इन स्वार्थी नेताओं को चेतावनी देते हुए कहा कि ये नेता अपनी गुलामी की जंजीरो को तोड़ें और इन अत्याचारों के खिलाफ अपना मुँह खोलें अन्यथा बहुजन समाज इन स्वार्थी नेताओं को माफ़ नहीं करेगा।इस आक्रोश प्रदर्शन को लक्ष्य के यूथ कमांडर पुनीत गौतम, विनोद, अशोक नेहरा, बिट्टू, रोहतास कुमार, कुणाल गौतम ने भी सम्बोधित किया।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

6 + eight =