Thursday, June 13

मजदूर के खाते में आए 2 अरब 21 करोड़ 30 लाख रुपये, बैंक वालों के भी उड़े होश

Pinterest LinkedIn Tumblr +

बस्ती 18 अक्टूबर। एक मजदूर के नाम से उसके बैंक खाते में दो अरब 21 करोड़ 30 लाख सात रुपये जमा होने का कारण जब आयकर विभाग ने नोटिस देकर पूछा तो मजदूर के होश उड़ गए। मंगलवार को वह बैंकों का चक्कर काटता रहा।
मजदूर के नाम से सिर्फ दो खाते केनरा बैंक और सेंट्रल बैंक शाखा में चल रहे हैं, लेकिन जालसाजों ने उसके पेनकार्ड के आधार पर आइसीआइसीआई और एक्सिस बैंक में फर्जी खाता खोलकर उसका संचालन कर रहे थे। इस मामले की जांच आयकर विभाग के साथ संबंधित बैंक ने भी शुरू कर दी है।

बस्ती जनपद के लालगंज थाने के बरतनिया गांव के रहने वाले शिव प्रसाद निषाद ने बताया कि वह 2008 से ही दिल्ली के बिजराबाद, श्रीनिवासपुरी में रहकर टायल्स लगाने आदि का कार्य करते हैं। एक सप्ताह पहले उनके गांव वाले घर पर आयकर विभाग की नोटिस पहुंची तो परिवार के लोग घबरा गए और इसकी जानकारी उन्हें दी। वह रविवार को दिल्ली से गांव पहुंचे। नोटिस देखने के बाद वह भी चकरा गए। बताया कि उनका पैन कार्ड गायब हो गया था। आशंका जताई कि किसी ने उनके पैन कार्ड का प्रयोग कर उनके नाम से खाता खोलकर इतना बड़ा फ्राड किया है।

मजदूर अपने गांव के एक व्यक्ति की मदद से मंगलवार को आयकर कार्यालय बस्ती पहुंचा और अधिकारियों ने उस खाते की जानकारी मांगी, जिसमें इतनी बड़ी धनराशि जमा होने की बात कही गई है। आयकर विभाग ने उन्हें दो बैंक खाते की जानकारी दी, जिसमें वह रकम जमा है, एक एक्सिस बैंक का है तो दूसरा आइसीआइसीआइ का। जिसपर उसने बताया कि इन दोनों बैंकों में उसका कोई खाता नहीं है।
शिव प्रसाद के केनरा बैंक नई दिल्ली के खाते में 300 रुपये हैं। वहीं सेंट्रल बैंक लालगंज बस्ती 29898 रुपये जबकि पोस्टआफिस लालगंज में महज दो हजार रुपये ही हैं।

ऐसे में उन्हें समझ में नहीं आ रहा कि जब उन्होंने इसके अलावा कोई बैंक खाता खुलवाया ही नहीं तो किस बैंक खाते में दो अरब 21 करोड़ से अधिक रुपये जमा है। बताया कि आयकर कार्यालय ने उनसे सभी खाताें के डिटेल्स मांगे हैं। जिसे 20 अक्टूबर तक उपलब्ध कराना है।

Share.

About Author

Leave A Reply