Saturday, June 22

शीलकुंज समेत 32 निजी कालोनी नगर निगम को हस्तांतरित, अगले माह बेचे जाएंगे 1,455 प्लाट

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ 11 जून (प्र)। अपनी छत का सपना देखने वाले लोगों के लिए मेरठ विकास प्राधिकरण (मेडा) की ओर से खुशखबर है। जल्द ही नए काटे गए प्लाटों की बिक्री शुरू होगी तो वहीं, अर्धनिर्मित फ्लैट भी बेचे जाएंगे। 32 निजी कालोनियों में रह रहे करीब एक लाख लोगों को अब नगर निगम की सुविधाएं मिल सकेंगी, क्योंकि इन्हें नगर निगम को हस्तांतरित कर दिया गया है। यही नहीं, हस्तिनापुर में जाने पर कुछ समय बाद महाभारत की जीवंत तस्वीरें दिखाई देंगी और गगोल में डिजिटल संग्रहालय बनेगा ।

मंडलायुक्त सेल्वा कुमारी जे. की अध्यक्षता में आयुक्त सभागार में सोमवार को मेरठ विकास प्राधिकरण की 126वीं बोर्ड बैठक हुई। इसमें प्रमुख प्रस्ताव रखा गया निजी कालोनियों के हस्तांतरण का काफी देर चली वार्ता के बाद तय हुआ कि जिन 32 कालोनियों को पूर्णता प्रमाण पत्र जारी हो चुका है, उन्हें नगर निगम को स्वतः हस्तांतरित माना जाए। इस पर सहमति बनी और इन कालोनियों को निगम को हस्तांतरित कर दिया गया। 24 कालोनियां इसी साल मार्च में हस्तांतरित की जा चुकी हैं। दूसरा प्रमुख प्रस्ताव था मेडा के 13 एसटीपी को निगम को हस्तांतरण से संबंधित मेडा ने अवगत कराया कि जल निगम की कार्यदायी इकाई गाजियाबाद से इसका सर्वे कराया गया था, जिसमें कमियां पाई गई थीं। इन्हें 20 करोड़ रुपये की लागत से सुधारने का प्रस्ताव बना है। इसका कार्य दिसंबर तक पूर्ण करने का लक्ष्य रखा गया है।

तय हुआ कि फिलहाल सभी की हस्तांतरण प्रक्रिया तभी अपनाई जाएगी। तीसरा महत्वपूर्ण प्रस्ताव रखा गया लैंड मोनेटाइजेशन के तहत नए काटे गए प्लाटों की बिक्री करना । लैंड मोनेटाइजेशन यानी 1987 में विकसित की गई कालोनियों जो आरक्षित प्लाट नहीं बिक सके उनका फिर से नियोजन करके नए सिरे से प्लाटिंग करना । लगभग 80 हेक्टेयर जमीन तलाशी गई थी, जिसमें 1455 प्लाट काटे गए हैं। तीन जुलाई के बाद इसकी बिक्री प्रक्रिया शुरू होगी। इन सभी प्लाटों की कीमत 575 करोड़ रुपये है। मेडा को इसकी बिक्री से लगभग एक हजार करोड़ रुपये की आय की उम्मीद है। इसमें 60 वर्ग मीटर से लेकर 350 वर्ग मीटर तक के प्लाट रहेंगे। वहीं अर्धनिर्मित 875 समाजवादी आवास और लोहियानगर में 576 अर्धनिर्मित आवास हैं, जिनकी बिक्री के लिए निर्णय किया गया। इन्हें जहां जैसे के आधार पर बेचा जा सकेगा। इसकी प्रक्रिया जल्द शुरू होगी। इन 1451 फ्लैटों की कीमत लगभग 300 करोड़ रुपये है।

बोर्ड बैठक में मंडलायुक्त की पहल से दो अहम प्रस्ताव भी रखे गए थे। इनमें शामिल हैं हस्तिनापुर में नेचर ट्रेल और गगोल में संग्रहालय का निर्माण । दोनों प्रस्तावों को स्वीकृति मिल गई। इसके तहत हस्तिनापुर में पांडव टीले के आसपास महाभारत से संबंधित विरासत स्थलों के आसपास कुछ ऐसे निर्माण किए जाएंगे जिससे पर्यटक यहां वन क्षेत्र के बीच से गुजरते हुए महाभारत की जीवंत तस्वीरें देख सकें। वहीं गगोल में प्रथम स्वतंत्रता संग्राम से संबंधित डिजिटल संग्रहालय बनाया जाएगा। बैठक में मेडा के उपाध्यक्ष अभिषेक पांडेय, नगर आयुक्त अमित पाल शर्मा, सीडीओ नूपुर गोयल, मेडा सचिव आनंद सिंह, प्रभारी मुख्य नगर नियोजक विजय कुमार सिंह उपस्थित रहे।

हवाई पट्टी व डवल आवंटन के पीड़ितों को मिलेंगे प्लाट
53 आवंटी ऐसे हैं जिन्हें शताब्दीनगर में प्लाट आवंटित हुए थे, लेकिन हवाई पट्टी विस्तार में कुछ जमीन मेडा को देनी पड़ी, इसमें 53 प्लाट भी चले गए। ऐसे लोगों को समायोजित करने के लिए कई साल से प्रक्रिया चल रह किसी अन्य को आवंटित कर दिया गया था है। वहीं 14 आवंटी ऐसे हैं, जिनके प्लाटों को या फिर मौके पर प्लाट था ही नहीं। अब निर्णय हुआ है कि इन दोनों पीड़ितों को उन 1455 प्लाटों में समायोजित किया जाएगा,जिसकी प्रक्रिया जुलाई में शुरू होगी।

श्रद्धापुरी में बनेगा चार्जिंग स्टेशन, बनेंगे 10 बस शेल्टर
श्रद्धापुरी फेस-टू में सिटी बस सर्विस के लिए इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग के लिए एक हजार वर्ग जमीन दी जाएगी। यह जमीन 1450 प्लाटों में ही समायोजित की जाएगी। वहीं पिछली बोर्ड बैठक में 10 बस शेल्टर बनाने का निर्णय हुआ था। उस क्रम में मेडा ने टेंडर निकाला था, लेकिन शर्ते न पूरी होने पर टेंडर निरस्त हो गया था। अब फिर से टेंडर निकाला जाएगा।

इन 32 कालोनियों का हुआ हस्तांतरण
1. रेल विहार
2. रायल एस्टेट
3. शीलकुंज-वन
4. अंसल हाउसिंग, जिटौली
5. शीलकुंज-टू, पल्हैड़ा
6. ए टू जेड ग्रीन एस्टेट कालोनी
7. मेरठ वन
8. शीलकुंज- तृतीय
9. शीलकुंज – द्वितीय एक्सटेंशन
10. रेल्प्रो रेजीडेंसी
11. मेट्रो रेजीडेंसी
12. शीलकुंज एन्क्लेव
13. ओलिव ग्रीन सिटी
14. श्याम वाटिका
15. गणपति एन्क्लेव
16. एपेक्स सिटी बागपत रोड
17. सरस्वती सागर
18. सरस्वती वाटिका
19. अंसल टाउन कालोनी, जिटौली
20. अंसल ग्रुप हाउसिंग, जिटौली
21. गेटवे ग्लोबल गोल्फ लाइव
22. गेटवे ग्लोबल बिल्डवेल
23. गोल्फ ग्रीन
24. हर्ष कामर्शियल पार्क
25. न्यू साकेत
26. मेसर्स एपेक्स प्रोपमार्ट
27. वृंदा एसोसिएट्स
28. सरस्वती वाटिका -टू
29. सरस्वती वाटिका एक्सटेंशन
30. सरस्वती उद्योगपुरम फेस-एक
31. एपेक्स सिटी बागपत रोड-टू
32. रायल पार्क प्रमोटर्स

टाउनशिप के लिए एक महीने में 150 हेक्टेयर भूमि खरीदने का लक्ष्य
दिल्ली रोड किनारे मोहिउद्दीनपुर में 300 हेक्टेयर में इंटीग्रेटेड टाउनशिप विकसित होनी है। इसके लिए एक महीने में लगभग 150 हेक्टेयर भूमि खरीदने का लक्ष्य रखा गया है । इसी क्रम में एक-दो सप्ताह में ही 95 हेक्टेयर की खरीद पूरी हो जाएगी।

 

 

 

Share.

About Author

Leave A Reply