Thursday, June 13

बिल्डर संजीव मित्तल के खिलाफ तीन करोड़ की धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ, 04 जनवरी (प्र)। एंड्री बिल्डर्स एंड डेवलेपर्स के मालिक संजीव मित्तल के खिलाफ तीन करोड़ की धोखाधड़ी का मुकदमा परतापुर थाने में दर्ज हुआ है। आरोप है कि बिल्डर ने फर्जी रसीद बनाकर कालोनी में 106 करोड़ रुपये की जमीन का सौदा कर लिया। एडवांस के तौर पर तीन करोड़ पांच लाख की रकम ले ली। खरीदार जमीन पर कब्जा करने पहुंचे तो असली मालिक सामने आ गए।
उसके बाद बिल्डर से रकम वापस मांगी तो जान से मारने की धमकी दी गई। शहजाद निवासी समर गार्डन कालोनी, लिसाड़ी रोड थाना लिसाड़ी गेट, हाजी मेहराजुद्दीन, शान मौहम्मद, सुभाष शर्मा, इरफान, और अनीस के साथ मिलकर प्रापर्टी खरीद और बेचने का काम करते हैं। उन्होंने जमीन की खरीदारी के लिए दिल्ली रोड स्थित राजकमल एन्क्लेव निवासी बिल्डर संजीव मित्तल से संपर्क किया था। संजीव एंड्री बिल्डर्स एंड डेवलेपर्स के मालिक हैं।
संजीव ने उन्हें लिसाड़ी रोड स्थित न्यू मदीना कलोनी के पीछे गांव लिसाड़ी में 86,494 वर्ग जमीन दिखाई, जिसकी कीमत 105 करोड़ 95 लाख 51 हजार 500 रुपये तय हुई।

संजीव ने जमीन की फर्जी रसीद दिखाई। उसके बाद एडवांस में तीन करोड़ पांच लाख रुपये ले लिए। जमीन पर कब्जा लेने गए, तब उसके असली मालिकों के बारे में जानकारी मिली। उसके बाद संजीव मित्तल के कार्यालय से नोटबंदी के बाद दिसंबर 2017 में पुलिस ने 25 करोड़ की पुरानी करेंसी बरामद की थी। परतापुर थाने में मुकदमा दर्ज किया गया था। इस मामले में आयकर और ईडी ने छानबीन शुरू की थी। इसी प्रकरण में संजीव की कुल 18 कंपनियों को जांच के दायरे में लाकर जांच की गई। आयकर विभाग की तरफ से दो सौ करोड़ का जुर्माना लगाया गया। उस समय भी संजीव मित्तल चर्चा में आए थे।

2017 में आए थे चर्चा में: बिल्डर संजीव ने रकम वापस करने से इन्कार कर दिया। उसके बाद परतापुर थाने में संजीव के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है। उधर, संजीव मित्तल का कहना है कि शहजाद पक्ष से उनका कोई लेनदेन नहीं है।

Share.

About Author

Leave A Reply