Friday, April 19

ज्वेलर्स ने अपने अपहरण-लूट की लिखी थी स्क्रिप्ट, सपा के पूर्व पदाधिकारी समेत सात गिरफ्तार

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ 23 फरवरी (प्र)। मेरठ में लाखों का कर्ज चुकाने से बचने के लिए ब्रह्मपुरी क्षेत्र के रहने वाले एक ज्वेलर्स ने सपा के पूर्व पदाधिकारी के साथ मिलकर अपने ही अपहरण और लूट का मुकदमा देहली गेट थाने में दर्ज करा दिया। आधी रात तक जांच के बाद असलियत सामने आने पर पुलिस ने ज्वेलर्स और सपा के पूर्व पदाधिकारी सहित सात लोगों को गिरफ्तार किया है। वहीं, इस मामले में कोतवाली थाने के दो सिपाही विश्वास और सुंदर को सस्पेंड कर दिया गया है।

देहली गेट थाना प्रभारी विनय कुमार सिंह ने बताया कि ब्रह्मपुरी के रहने वाले दीपांशु जैन की शहर सर्राफा बाजार में ज्वैलरी शॉप है। बुधवार देर रात दीपांशु के कर्मचारी ऋषभ ने थाने में सूचना दी कि तीन अज्ञात बदमाश और दो पुलिसकर्मी खुद को डीआरएम टीम बातकर दुकान पर बैठे दीपांशु का अपहरण करके लाखों का माल समेटकर ले गए हैं। जिस पर पुलिस ने तत्काल मुकदमा दर्ज करते हुए जांच शुरू कर दी।

वहीं, ज्वेलर्स के अपहरण की सूचना मिलते ही तमाम आला अधिकारी भी थाने पहुंच गए। इसके बाद पुलिस ने दीपांशु और उसके साथी अजय शर्मा उर्फ अज्जू, ऋषभ, कृष्ण, गौरव, रजत और दौलत राम को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के दौरान पता चला कि दीपांशु के ऊपर व्यापारियों का लाखों का कर्ज है। जिसे चुकाने से बचने के लिए उसने खुद ही अपने साथियों की मदद से अपने अपहरण और लूट की सूचना पुलिस को दी थी। जिससे उसे कर्ज न चुकाना पड़े।

बताया गया कि आरोपियों के कब्जे से लगभग दो किलो सोना और छह लाख कैश बरामद किया गया है। सभी आरोपियों को जेल भेज दिया गया है। अजय शर्मा उर्फ अज्जू सपा व्यापार सभा का जिला अध्यक्ष था। जिसे 17 फरवरी को पद से हटा दिया गया था।
ज्वेलर्स के अपहरण और लूट के मामले में आरोपी अज्जू पंडित ने कोतवाली थाने के दो सिपाहियों से सेटिंग की थी। दोनों सिपाही का क्षेत्र न होते हुए भी वे मौके पर पहुंच गए थे। इस मामले में सिपाहियों ने आरोपियों का बचाव करने का भी प्रयास किया था। एसएसपी ने इसकी जांच कराई। जांच रिपोर्ट के बाद कोतवाली के सिपाही विश्वास और सुंदर को निलंबित करते हुए विभागीय जांच शुरू कर दी है।

Share.

About Author

Leave A Reply