Monday, April 15

राजेंद्र अग्रवाल के त्याग की नेता और कार्यकर्ता कर रहे हैं तारीफ

Pinterest LinkedIn Tumblr +

पश्चिम क्षेत्र के 14 में से छह सांसदों के टिकट कटे। कुछ इसको लेकर मुखर हुए तो कुछ चुप्पी साधकर बैठ गए। लेकिन सांसद वरूण गांधी और पूर्व मंत्री व सांसद वीके सिंह सिंह ने चुनाव ना लड़ने की बात टिकट कटने या मिलने में देर पर कही। लेकिन मेरठ-हापुड़ लोकसभा क्षेत्र के सांसद राजेंद्र अग्रवाल की बीते दिवस आयोजित प्रबुद्ध सम्मेलन में सीएम योगी द्वारा मुक्त कंठ से सराहना की गई और कहा गया कि मैं सांसद राजेंद्र अग्रवाल को 2009 से जानता हूं।
अभी तक विधानसभा और लोकसभा में जिन लोगों को टिकट नहीं मिले या जो हार गए कुछ दिनों बाद पार्टी के प्रति समर्पण और अपना विश्वास बनाए रखने वाले नेताओं को उसका पुरस्कार भी मिला। इसके जीते जागते उदाहरण के रूप में भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. लक्ष्मीकांत वाजपेयी और पूर्व राज्यसभा सांसद कांता कर्दम को देख सकते है। 2009 में कांग्रेस की हवा के दौरान भाजपा के टिकट पर चुनाव जीते और लगातार तीन बार सांसद रहे राजेंद्र अग्रवाल द्वारा जिस प्रकार से इस सीट से उनके स्थान पर घोषित उम्मीदवार रामायण के राम अरूण गोविल को हर कदम पर दिए जा रहे सहयोग और कार्यकर्ताओं को उनके समर्थन में खड़ा करने एवं टिकट ना मिलने की बात को भूलकर उनके लिए क्षेत्र में माहौल बनाने में लगे राजेंद्र अग्रवाल के इस प्यार की उनके समर्थक और भाजपा समर्थक भी सीएम योगी की तरह प्रशंसा कर रहे हैं। क्योंकि भाजपा में ही नहीं सभी दलों और नेताओं में राजेंद्र अग्रवाल की भरपूर पकड़ और पहचान है। पीएम मोदी से लेकर केंद्र व प्रदेश में सक्रिय नेता उन्हें जानते और सम्मान करते हैं इसलिए यह बात विश्वास से कही जा सकती है कि उनके द्वारा पार्टी हाईकमान के आदेश पर अपनी सांसद उम्मीदवारी की दी गई कुर्बानी जल्द ही रंग ला सकती है क्योंकि भाजपा की कार्यप्रणाली और पीएम मोदी के निर्णय लेने की ताकत को देखकर यह स्पष्ट कहा जा सकता है कि वो कब क्या फैसला लेंगे वो कोई नहीं जानता इसलिए ऐसा लगता है कि देर सवेर श्री अग्रवाल को कोई बड़ी जिम्मेदारी दी जा सकती है। उनके त्याग और समर्पण को देखकर। क्योंकि दल और सरकार कोई सी भी हो विश्वसनीय और आस्थावान नेता कार्यकर्ता सभी दलों को प्रिय हैं। यह कहने में कोई हर्ज नहीं है कि राजेंद्र अग्रवाल इस मामले में शीर्ष पर कहे जा सकते हैं।

by

  • रवि कुमार विश्नोई
    संस्थापक: मेरठरिपोर्ट.काॅम
    MD- Tazzakhabar.com
    संस्थापक: Daily Newspaper Kesar Khusbu times
  • RKB Foundation

 

Share.

About Author

Leave A Reply