Thursday, June 13

अमेठी के संजय गांधी अस्पताल का लाइसेंस निलंबित

Pinterest LinkedIn Tumblr +

अमेठी 22 सितंबर । अमेठी के मुंशीगंज स्थित संजय गांधी अस्पताल में एक विवाहिता की मौत के बाद अमेठी प्रशासन ने संजय गांधी अस्पताल के लाइसेंस को निलंबित कर दिया है. अस्पताल का लाइसेंस निलंबित होने के बाद अस्पताल में तैनात चार सौ से अधिक कर्मचारियों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है. इसके अलावा अस्पताल में संचालित हो रहे नर्सिंग कॉलेज और पैरामेडिकल कॉलेज के छात्रों का भविष्य भी अधर में अटक गया है. फिलहाल अस्पताल के लाइसेंस को निलंबित करने को लेकर कांग्रेस पूरी तरह मैदान में उतर चुकी है.
एक दिन पहले सोनिया गांधी के प्रतिनिधि किशोरी लाल शर्मा ने अमेठी आकर भाजपा पर जमकर निशाना साधा था तो पूर्व एमएलसी दीपक सिंह के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने डीएम से मुलाकात कर राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन देते हुए अस्पताल को संचालित करवाने की मांग की. इसके अलावा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय राय ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर अमेठी की जनता की सहूलियत को देखते हुए अस्पताल के लाइसेंस को पुनः बहाल करने की मांग की है.

दरअसल 14 सितम्बर को मुसाफिरखाना थाना क्षेत्र के रामशाहपुर गांव के रहने वाले अनुज शुक्ला ने अपनी पत्नी दिया शुक्ला को पथरी का ऑपरेशन कराने के लिए भर्ती कराया था.15 सितम्बर को अस्पताल द्वारा आपरेशन के लिए एनेस्थीसिया का इंजेक्शन दिया गया जिससे उसकी हालत बिगड़ गई. परिजनों ने आरोप लगाया कि ओवरडोज की की वजह से दिव्या कोमा में चली गई. 16 सितम्बर को देर रात संजय गांधी के डॉक्टरों ने को लखनऊ रेफर कर दिया जहां वेदांता अस्पताल में डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया. दिव्या की मौत के बाद परिजनों और ग्रामीणों ने शव को अस्पताल के बाहर रखकर प्रदर्शन किया जिसके बाद अस्पताल के सीओओ अवधेश शर्मा समेत तीन डॉक्टरों पर धारा 304A के तहत मुंशीगंज थाने में मुकदमा दर्ज हुआ.
मामला बढ़ने के बाद सीएमओ अंशुमान सिंह ने डिप्टी सीएमओ राम प्रसाद, पीके उपाध्याय और एनेस्थेटिस्ट अभय गोयल के नेतृत्व में जांच टीम बनाई. जांच में मरीज को समय से रेफर न करने और इलाज में लापरवाही सामने आने पर अस्पताल प्रशासन को नोटिस जारी करते हुए लाइसेंस को निलंबित कर दिया.

Share.

About Author

Leave A Reply