Sunday, June 23

पांच जून से ही शुरू हो पाएगा नौचंदी मेला

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ 30 अप्रैल (प्र)। नौचंदी मेले में पांच जून के बाद ही बहार आ पाएगी क्योंकि न तो अभी तक धरातल पर मेले की तैयारी हैं और न ही बुलंदशहर में नुमाइश पूरी तरह भर पाई है। वहीं से दुकानदार नौचंदी मेले में पहुंचते हैं मेले की तैयारियों को लेकर जिला पंचायत प्रशासन ने सोमवार को बैठक की। साथ ही मेला परिसर में विकास कार्य कराने के लिए एक बार फिर निर्वाचन आयोग से दिशा निर्देश मांगे हैं।

पश्चिम उप्र का सबसे बड़ा और ऐतिहासिक मेला नौचंदी है। मेले का विधिवत रूप से होली के दूसरे रविवार को उद्घाटन हो चुका है। लोकसभा चुनाव को लेकर चुनाव आयोग ने आचार संहिता लागू की हुई है। इसलिए मेला मैदान पर कोई विकास कार्य भी नहीं कराया गया है। 20 दिन पहले भी जिला पंचायत प्रशासन ने चुनाव आयोग को पत्र भेजकर नौचंदी मेले के संबंध में दिशा निर्देश मांगे थे। चुनाव आयोग ने कई बिंदुओं पर आपत्ति लगाई थी। यही कारण है कि अभी तक दुकान, लाइट, रंगाई-पुताई, फुलवाड़ी, साफ सफाई आदि कार्य के ठेके नहीं छूटे हैं।

सोमवार को विकास भवन सभागार में मेला कमेटी के सदस्य और जिला पंचायत अधिकारियों ने नौचंदी मेला दुकानदार एसोसिएशन के साथ बैठक की।

एसो. के अध्यक्ष ललित अग्रवाल ने कहा कि पिछले सालों में नौचंदी मेले में आने वाले दुकानदारों का उत्पीड़न किया गया। कुछ लोगों ने बिजली के नाम पर भ्रष्टाचार किया।
उन्होंने कहा कि दुकानों का अलार्टमेंट संबंधित विभाग द्वारा किया जाए। विभाग द्वारा दी जानी वाली किराए की रसीद को ही सही माना जाए। दुकानदारों को दी जाने वाली बिजली की दरें पहले ही निर्धारित करके सार्वजनिक की जानी चाहिए जो दुकानें किराए पर दिए जाने से रह जाती हैं उन दुकानों का आवंटन पहले आओ पहले पाओ की तर्ज पर किया जाना चाहिए।
एसीएम और जिला पंचायत की अपर मुख्य अधिकारी भारती धामा ने कहा कि मेले को भव्य बनाने का प्रयास किया जाएगा। दुकानदारों की सभी मांगों को शीघ्र हो जिलाधिकारी की अध्यक्षता में होने वाली बैठक में रखा जाएगा। चार जून के बाद से ही नुमाइश से दुकानदार आने शुरू होंगे।

Share.

About Author

Leave A Reply