Sunday, June 23

अबू धाबी में हिन्दू मंदिर का उद्घाटन करेंगे प्रधानमंत्री

Pinterest LinkedIn Tumblr +

नई दिल्ली 29 दिसंबर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यूएई के अबूधाबी में बीएपीएस हिंदू मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव में शामिल होने जाएंगे. मंदिर की ओर से उन्हें आमंत्रित किया गया है. मंदिर की ओर से एक प्रतिनिधिमंडल नई दिल्ली में 7 लोक कल्याण मार्ग स्थित प्रधानमंत्री के आवास पर उन्हें आमंत्रित करने पहुंचा था. पीएम मोदी ने मंदिर का निमंत्रण स्वीकार कर लिया है. मंदिर का प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव 14 फरवरी 2024 को होना है.

मंदिर से जुड़े एक X अकाउंट से पीएम मोदी को आमंत्रित किए जाने की कुछ तस्वीरें साझा की गई है, साथ ही लिखा गया है, ”पूज्य ईश्वरचरण स्वामीजी एवं पूज्य ब्रह्मविहारी स्वामीजी ने गुरुवर्य महंत स्वामीजी की ओर से आबूधाबी, यूएई में फरवरी 14,2024 को प्रतिष्ठित होनेवाले बीएपीएस हिंदू मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव एवं लोकार्पण समारोह में गौरवशाली उपस्थिति के लिए भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी को आमंत्रित किया. इस आमंत्रण को सहर्ष मोदीजी ने स्वीकार किया.”

जानकारी के मुताबिक, बीएपीएस संस्था के प्रमुख महंत स्वामी ने पीएम मोदी को भेजी निमंत्रण पत्रिका में उन्हें पूज्य प्रमुख स्वामी महाराज का प्रिय पुत्र कह कर संबोधित किया है. बीएपीएस की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक, स्वामी ईश्वरचरणदास ने देश और दुनिया में पीएम मोदी के महत्वपूर्ण योगदान को स्वीकार करते हुए पारंपरिक रूप से उन्हें माला पहनाकर और भगवा शॉल ओढ़ाकर उनका सम्मान किया. इसमें लिखा गया कि पूरे भारत में तीर्थ स्थलों के उल्लेखनीय नवीनीकरण और विकास के लिए प्रधानमंत्री की विशेष रूप से सराहना की गई, जो हाल की शताब्दियों में एक अद्वितीय उपलब्धि है.

मंदिर की ओर से बताया गया कि प्रतिनिधि मंडल और पीएम मोदी के बीच मुलाकात के दौरान चर्चा वैश्विक सद्भाव के लिए अबू धाबी मंदिर के महत्व और वैश्विक मंच पर भारत के आध्यात्मिक नेतृत्व के लिए पीएम के दृष्टिकोण के इर्द-गिर्द घूमती रही.

वेबसाइट पर बताया गया कि बीएपीएस प्रतिनिधिमंडल ने पीएम मोदी के स्वास्थ्य के लिए प्रार्थना की और उनकी असाधारण वैश्विक उपलब्धियों, विशेष रूप से संयुक्त अरब अमीरात और अन्य मध्य पूर्वी देशों के साथ संबंधों को मजबूत करने को स्वीकार किया. उन्होंने मोदी के नेतृत्व से दुनियाभर में भारतीयों में पैदा हुए गौरव और प्रेरणा पर भी चर्चा की.

Share.

About Author

Leave A Reply